January 20, 2022
Breaking News

तिहाड़ जेल को असुरक्षित बताते हुए ब्रिटेन खारिज कर सकती है विजय माल्या का प्रत्यर्पण की मांग, अदालत तिहाड़ को बता चुकी है ‘असुरक्षित’

तिहाड़ जेल को असुरक्षित बताते हुए ब्रिटेन खारिज कर सकती है विजय माल्या का प्रत्यर्पण की मांग, अदालत तिहाड़ को बता चुकी है ‘असुरक्षित’
सूत्रों के मुताबिक ब्रिटेन की एक अदालत शराब कारोबारी और भारतीय बैंकों से 9000 करोड़ रुपये का कर्ज लेकर फरार विजय माल्या के प्रत्यर्पण से इनकार कर सकती है। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की जिस अदालत में माल्या के खिलाफ सुनवाई चल रही है, उसके दो जज तिहाड़ को इससे पहले मानवाधिकार मामलों में असुरक्षित मान चुके हैं। माल्या भारत में कई बैंकों की कुल 9,000 करोड़ रुपये की राशि वाले ऋण नहीं चुकाने के मामले में वांछित हैं. वहीं इस मामले में 20 नवंबर को होने वाली सुनवाई में यह तय होगा कि चार दिसंबर से शुरू हो रहे प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई किस प्रकार होगी.माल्या मामले में इससे पहले जज तिहाड़ जेल को असुरक्षित बताते हुए और सीबीआई की ओर से दायर याचिका खारिज कर चुके हैं कि जिन शर्तों पर माल्या को तिहाड़ में रखा जाएगा, उनसे उनके मानवाधिकारों का उल्लंघन होगा।वही इससे पूर्व जिला न्यायाधीश रेबेका क्रेन ने क्रिकेट मैच फिक्सिंग मामले में मुख्य आरोपी चावला के खिलाफ मुकदमों को दिल्ली के तिहाड़ जेल की खराब स्थिति को देखते हुए मानवाधिकार का हवाला देते हुए खारिज कर दिया. प्रत्यर्पण के बाद चावला को इसी जेल में रखा जाना था. साल 2000 में हुए इस मैच फिक्सिंग में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान हेंसी क्रोंज भी आरोपी थे.विदित हो कि भारत और ब्रिटेन के बीच 1992 में प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर हुए थे और नवंबर 1993 से यह प्रभावी हो गई थी. इस साल की शुरुआत में राज्य सभा में सरकार की तरफ से जारी बयान के मुताबिक माल्या के अलावा ब्रिटेन की अदालतों में पांच भारतीयों के प्रत्यर्पण के मामले लंबित हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *