August 5, 2021
Breaking News

जाने इस शहर के बेटे और बेटियों की शादी क्यो नहीं हो रही

जाने इस शहर के बेटे और बेटियों की शादी क्यो नहीं हो रही

हरित छत्तीसगढ़ विवेक तिवारी/संजय तिवारी पत्थलगांव। रायगढ़, पत्थलगांव व जशपुर की जर्जर सड़क का खामियाजा शादी योग्य लड़के लड़कियों को भुगतना पड़ रहा है इन क्षेत्रो कि बदहाल सड़क का ही नजीता है कि आज पत्थलगांव क्षेत्र के लोगों में रिश्तों की मधुरता में भी खटाश पडऩी शुरू हो गई है। जी हां यह सुनने में जरूर अजीब लग रहा होगा लेकिन यह सौ फीसदी सच साबित हो रही है पत्थलगांव के लिये। बदहाल सड़क का खामियाजा अब यहां की बेटियों को भुगतना पड़ रहा है। हालांकि अभी हाल के दिनों में लोक निर्माण विभाग मंत्री राजेश मूणत के जिले दौरे के बाद सड़को में थूक पालिश ही सही लेकिन कुछ सुधार देखी गयी परन्तु इन क्षेत्रों में पूर्व में जो रिस्ते आकर वापस लौट गए है उन्हें फिर से इस ओर की रुख करने समाज के वरिष्ठ लोगो काफी मेहनत करनी पड़ेगी। आलम यह है कि अब बेटियों के हाथ पीले करने के लिए माता पिता को अपने सम्भ्रांत परिवार शानो शौकत दिखाने के अलावा यह कि सड़कों में जल्द ही चकाचक होने का भी हवाला दिया जा रहा है। गौरतलब हो कि जशपुर पत्थलगांव नेशनल हाइवे – 43 व रायगढ़ मार्ग की खराब हालत के कारण अब राहगीरों के अलावा रिश्तों की मधुरता मे भी खटाश पडऩी शुरू हो गई है। यहां आने के लिए सड़कों की खराब हालत को देखकर दूर-दराज के लोग अब यहां रिश्तेदारी करने से भी परहेज करने लगे हैं।
जशपुर जिले में आवागमन का सड़क ही एक मात्र विकल्प रहने व उसकी स्थिति खराब होने के कारण दूर-दराज के लोग अब शहर मे अपने रिश्तेदारी करने से बचने लगे हैं। पिछले दिनों ऐसे कई मामले देखने को मिले जब आवागमन की सुविधा न रहने के कारण यहां की बेटियों के हाथ पीले होने से रह गए।
दरअसल शहर तीन जिलों का जंक्शन व व्यापारिक जगह रहने के कारण समाजिक लोग यहां अपने रिश्ते जोड़कर खुश हुआ करते थे, लेकिन अब सडकों की हालत खराब होने के कारण रिश्तों में कमी आकर कई बार बात बनते बनते ही टूट भी गई है। शहर के बीच की सड़क के अलावा तीनों जिलों तक जाने वाली सड़क की हालत अत्यंत खराब हो चुकी है। लोक निर्माण मंत्री के आने के  बाद  शहर के दो मार्गों में ठुक पालिश  किया गया है लेकिन वह नाकाफी है वही अब सड़क पर उड़ रहे धुल  के कारण आए दिन दुर्घटना होने लगी है।
सड़क में उड़ रहे धूल से हादसे का अंदेशा
नेशनल हाईवे की सड़क व रायगढ़ मार्ग पर निर्मित जान लेवा गड्ढों को लोक निर्माण मंत्री के आगमन को लेकर पात कर थूक पालिस किये जाने के बाद भी यहां से उड़ रहे धूल से लोगो को कोई राहत नही मिल रही है। इससे बुरा हाल कटनी गुमला राष्ट्रीय राजमार्ग का है जहां निर्माण की धीमी गति की वजह से दिनभर भारी वाहनों का लगातार आवागमन होने से गड्ढो मे भरी गई मिट्टी धुल बनकर लोगों का जीना मुहाल कर चुकी है। लोग आंखो की जलन व गंभीर बीमारी की चपेट मे आकर संबंधित विभाग को कोसते नजर आ रहे हैं। एनएच की सड़क एक बार फिर अपनी खस्ताहाल स्थिति में पहुंच चुकी है, जिसकी वजह से यहां के नागरिकों को खस्ताहाल स्थिति का खामियाजा उठाना पड़ रहा है।स्थानीय लोगो का कहना है कि उम्मीद है कि कुछ महीनों के अंतराल में क्षेत्र में वाकई सड़के चकाचक हो जाएगी पर्णी अभी जो रिश्तों में दूरियां बढ़ गयी है उसे पाटने कई साल बीत जाएंगे।

एलर्जी व दमें से पीड़ित मरीजो की संख्या में भारी इजाफा

स्वास्थ्य विभाग के सूत्रो की माने तो बीते तीन माह में ही एलर्जी व दमें से पीड़ित मरीजो की संख्या में भारी इजाफा हुआ है अब आलम यह है कि लोग धूल से बचने घर से निकलना ही बंद कर दिए हैं परन्तु मुख्यतः सड़क किनारे बसा इस शहर से हर समय सैकड़ो भारी वाहनो की आवाजाही लगी रहती है वाहनो की आवाजाही से उठ रहे धूल के गुबार सड़क किनारे स्थित मकान व दुकान के अन्दर प्रवेष करते हुए शरीर के साथ साथ सामानो को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *