July 25, 2021
Breaking News

बिलासपुर : महिला SI, समेत 4 पुलिसकर्मी लाइन अटैच, काम में लापरवाही के चलते कार्रवाई

बिलासपुर : महिला SI, समेत 4 पुलिसकर्मी लाइन अटैच, काम में लापरवाही के चलते कार्रवाई

बिलासपुर। सकरी चौकी में वर्ष 2016 में मिट्टी तेल जब्त कर उसे प्रशिक्षु एसआई व हवलदार ने गायब कर दिया था। विभागीय जांच में दोषी पाए जाने पर आईजी ने उन्हें कठोर सजा सुनाते हुए उनकी वेतनवृद्घि संचयी प्रभाव से एक साल के लिए रोक दी है। साथ ही गड़बड़ी में सहयोग करने वाले एक हवलदार की वेतनवृद्घि असंचयी प्रभाव से एक साल के लिए रोकी गई है।

चौकी में उस समय प्रशिक्षु एसआई सुनीता भारद्वाज बतौर चौकी प्रभारी कार्यरत थीं। तब उनके साथ हवलदार शोभनाथ यादव और आनंद मसीह भी वहां पदस्थ थे। दिसंबर महीने में पुलिसकर्मियों ने पास के ही गांव में छापामार कार्रवाई कर बड़ी मात्रा में मिट्टी तेल जब्त किया। उसे चौकी में रखा गया। करीब 15 दिन बाद जिन पुलिसकर्मियों ने मिट्टी तेल जब्त कर लाया था, उनकी जानकारी के बगैर ही उसे गायब कर दिया गया और मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई। बाद में यह बात सार्वजनिक हो गई और मामला पुलिस अफसरों तक पहुंच गया। इस बीच मीडिया में चौकी से मिट्टी तेल गायब होने की खबर प्रकाशित हो गई। मामला उजागर होने के बाद तत्कालीन आईजी पवन देव व एसपी अभिषेक पाठक ने चकरभाठा टीआई राजेश श्रीवास्तव से जानकारी मांगी। साथ ही उन्हें रिपोर्ट पेश करने कहा। चौकी में पदस्थ स्टॉफ से पूछताछ में इसकी पुष्टि की गई और रिपोर्ट एसपी को सौंपी गई। इसके बाद आईजी श्री देव ने विभागीय जांच के आदेश दिए। विभागीय जांच के दौरान चौकी में पदस्थ आरक्षक, हवलदार, एएसआई सहित अन्य पुलिसकर्मियों का बयान दर्ज किया गया। विभागीय जांच में भी पुलिसकर्मियों ने प्रशिक्षु एसआई व हवलदार की मिलीभगत से अफरातफरी की है। विभागीय जांच में इस गड़बड़ी के लिए तत्कालीन चौकी प्रभारी व प्रशिक्षु एसआई सुनीता भारद्वाज व हवलदार शोभनाथ यादव को दोषी पाया गया। साथ ही गश्ती हवलदार आनंद मसीह ने उनके पक्ष में बयान देकर सहयोग किया था। लिहाजा उसे भी दोषी माना गया। आरोप प्रमाणित होने पर रिपोर्ट एसपी के माध्यम से आईजी को सौंपी गई। आईजी पीएस गौतम ने दोषी प्रशिक्षु एसआई सुनीता नाग व हवलदार शोभनाथ यादव की एक-एक वेतनवृद्धि संचयी प्रभाव से रोक दिया है। वहीं इस मामले को छिपाने में सहयोग करने वाले हवलदार आनंद मसीह की एक वेतनवृद्घि असंचयी प्रभाव से एक साल के लिए रोकने का आदेश दिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *