September 17, 2021
Breaking News

राजधानी रायपुर के न्यायाधीशों ने एक ही दिन में फिर किये 133 विधिक साक्षरता शिविर

रायपुर राजधानी के न्यायाधीशों ने एक ही दिन में फिर किये 133 विधिक साक्षरता शिविर

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर//आज दिनांक 11 नवंबर 2017 को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, रायपुर ने अपनी तरह का एक और अभूतपूर्व आयोजन किया। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली के निर्देश पर विधिक जागरूकता का दस दिवसीय कनेक्ट टू सर्व अभियान पूरे देश में चलाया जा रहा है। इसी अभियान के अंतर्गत छ.ग. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, बिलासपुर के कार्यपालक अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री प्रीतिंकर दिवाकर के मार्गदर्शन में तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, रायपुर के अध्यक्ष/जिला न्यायाधीश श्री नीलम चंद सांखला के द्वारा स्थापना के समस्त न्यायाधीशों, पेनल अधिवक्तागण एवं पैरालीगल वालेन्टियर्स के साथ मिलकर एक ही दिन में रायपुर एवं गरियाबंद जिले के अलग-अलग स्थानों में 133 से ज्यादा विधिक साक्षरता शिविर आयोजित किए। इन सभी शिविरों में आम जनता ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। इन शिविरों में आम जन को कानूनी रूप से जागरूक करने हेतु विभिन्न विधिक प्रावधानों की जानकारी दी गई। इन सभी शिविरों में कनेक्ट टू सर्व अभियान के बारे में एवं आगामी दिनांक 9 दिसंबर 2017 को आयोजित होने वाली नेशनल लोक अदालत एवं 13-14 जनवरी 2018 को होने वाले शार्ट फिल्म फेस्टीवल के बारे में लोगों को जानकारी दी गई। प्राधिकरण के द्वारा से इस कनेक्ट टू सर्व अभियान के अंतर्गत, अधिक से अधिक विधिक साक्षरता शिविर करने का लक्ष्य रखा गया था। इस लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए सुबह से ही न्यायाधीशगण अपने अपने निर्धारित स्थान पर शिविर करने हेतु निकले और रायपुर, गरियाबंद, तिल्दा, राजिम व देवभोग क्षेत्र में विभिन्न ग्राम पंचायत, शैक्षणिक संस्थान एवं सार्वजनिक चौक चौराहों पर शिविर आयोजित किए गए। शिविर करने हेतु निकले कई न्यायाधीशगण एवं अधिवक्तागण रास्ते के गांव एवं भीड़ वाले स्थानों पर लोगों को संबोधित किया और उन्हें विधिक सेवा प्राधिकरण एवं निःशुल्क विधिक सहायता के बारे में एवं लोक अदालत के लाभ एवं महत्व के बारे में बताया। इस प्रकार प्राधिकरण की ओर से कुल मिलाकर 133 शिविर किए गए। सुबह से लेकर शाम तक लगातार शिविरों का क्रम चलता रहा। इन सभी शिविरों में लगभग 11,000 से ज्यादा लोगों को विधिक जानकारी दी गई। रायपुर के जिला न्यायाधीश श्री नीलम चदं  ने स्वयं भी विधिक साक्षरता शिविर किए उन्होंने दोपहर तीन बजे से  हमर छत्तीसगढ़ कार्यक्रम में लगभग 600 जनप्रतिनिधियों को विधिक जानकारी दी और रायपुर, गरियाबंद, धमतरी एवं महासमुंद से आये पंचायत प्रतिनिधियों को विधिक सेवा प्राधिकरण एवं नेशनल लोक अदालत के संबंध में जानकारी दी। इस दौरान श्री सांखला ने पंचायत प्रतिनिधियों को कानून, विधिक सेवा प्राधिकरण के संबंध में छत्तीसगढ़ी बोली में विभिन्न उदाहरणों  के साथ विधिक प्रावधानों को समझाया, जिसे लोगों ने ध्यान पूर्वक सुना। इस दौरान रायपुर के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट  श्री आनंद प्रकाश दीक्षित एवं प्राधिकरण के सचिव श्री उमेश उपाध्याय ने भी उपस्थित जन समुदाय को संबोधित किया एवं उपस्थित लोगों को प्राधिकरण, निःशुल्क विधिक सहायता एवं पैरा लीगल वालिंटियर बनने के संबंध में जानकारी दी। रायपुर स्थापना के अपर सत्र न्यायाधीश श्री देवेन्द्र कुमार, श्री चन्द्र कुमार कश्यप, श्री भानुप्रताप सिंह त्यागी, श्री अतुल कुमार श्रीवास्तव, श्री सुनील कुमार नन्दे, श्री पी.एस.मरकाम, श्री राजेन्द्र कुमार वर्मा, श्री राकेश वर्मा, श्रीमती तजेश्वरी देवी देवांगन, श्रीमती निधि शर्मा तिवारी, न्यायिक मजिस्टेट श्री विनय प्रधान, श्री सर्वविजय अग्रवाल, श्रीमती प्रियंका अग्रवाल, श्री हरेंद्र नाग, श्री शिवप्रकाश त्रिपाठी, श्री भावेश वट्टी, श्री अनंतदीप तिर्की, सुश्री नेहा उसेंडी, सुश्री भावना नायक, श्रीमती दीप्ति सिंह गौर एवं अन्य सभी न्यायाधीश इस अभियान में शामिल होकर अलग-अलग स्थानों पर दिनभर साक्षरता शिविरों का आयोजन किया।स्मार्ट सिटी रायपुर से लेकर सुदूर देवभोग के गांवों तक हुए शिविर प्राधिकरण द्वारा आयोजित विधिक साक्षरता शिविरों में जहां रायपुर शहर के कई शासकीय गैर शासकीय शिक्षण संस्थानों में आयोजन किया गया। रायपुर जिले के विभिन्न गांवों में भी जाकर न्यायधीशों ने शिविर आयोजित किये। रायपुर के ग्राम रीको, बेलभाटा, जुलूम, धनेली, बोरियाकला, टमे री, राखी, उपरवारा, झाझं , नवागाँव , चंपारण , जौदा , पांेड, सद्दू, कंचना, खम्हारडीह, गिरोला आदि में विशाल जनसमूह के बीच शिविर किये गये। वहीं गरियाबंद, देवभोग, तिल्दा और राजिम के छोटे छोटे गांवों के पंचायत भवन और चौपालों में लोगों को विधिक जानकारी दी गई। गरियाबंद जिले के सुदूर देवभोग ब्लाक के दस से ज्यादा गांवों में शिविर हुये। गरियाबंद जिले में अपर सत्र न्यायाधीश श्रीमती मधु तिवारी एवं मुख्य न्यायिक मजिस्टेट श्री शैलेश अच्युत पटवर्धन ने पैनल लायर्स के साथ मिलकर ग्राम शिवनी, पंेड्ा, कनसिंघी, दुल्ला, छुरा, पीपरछेड़ी, चिगं रमाल, महुआभांठा , रूवाड, लोहारी, बाघमार, दातं बाय कला, कोंकड़ी,तवरबाहरा, जिथरीडूमर, हरदी, कोंदोबतर, बेहरमुडा, बारूका एवं पंटोरा में विधिक साक्षरता शिविर किये। इस आयोजन में तिल्दा की न्यायाधीश श्रीमती कंचन लता आचला, राजिम के न्यायाधीश श्री विवेक नेताम, देवभोग के न्यायाधीश श्री गीतेश कौशिक ने भी अपने स्थानीय क्षेत्राधिकार में कई शिविर किये। इस प्रकार इस आयोजन में शहरी क्षेत्र से लेकर छोटे-छोटे गांव तक भी न्यायाधीशों एवं अधिवक्ताओं ने विधिक साक्षरता का प्रसार किया एवं नेशनल लोक अदालत तथा प्राधिकरण की जानकारी दी गई।जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, रायपुर के अध्यक्ष श्री नीलम चदं सांखला ने इस एक दिवसीय शिविर अभियान की सफलता पर सभी न्यायाधीशगण पेनल लायर्स और पैरालीगल वालेन्टियर्स तथा सभी सहयोग करने वाली संस्था एवं आम जनता का आभार व्यक्त किया और आम जनता से 9 दिसंबर 2017 को आयोजित होने वाली नेशनल लोक अदालत का लाभ उठाने एवं इस लोक अदालत में अधिक से अधिक प्रकरणों के निराकरण में सहयोग करने की अपील की और लोक अदालत को एक पर्व के तौर पर मनाकर अपने जीवन को विवादरहित बनाने का आह्वान किया तथा कनेक्ट टू सर्व अभियान के दौरान लोगों को प्राधिकरण से जुड़ने का आह्वान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *