September 24, 2021
Breaking News

जहरीली जड़ी-बूटी का रस पीने से एक की मौत दूसरा गम्भीर

सरगुजा के सीतापुर में जहरीली जड़ी-बूटी का रस पीने से एक की मौत दूसरा गम्भीर घर में पसरा मातम 

हरित छत्तीसगढ़ एमडी हदीश सीतापुर//सीतापुर विकासखंड के सुदूर ग्रामीण क्षेत्र आरा  गांव में एक परिवार के कुछ लोगों को दर्द दूर करने के लिए जंगली जड़ी-बूटी के नाम पर पेड़ का जड़ का रस पिना इतना मंहगा पड़ा की रस सेवन के बाद हालाकि दर्द तो कम नहीं हुआ लेकिन परिवार वालो की दर्द बढ़ा गये और उनके सामने ही देखते-देखते परिवार के मुखिया मौत की आगोश में समा गये। इस सम्बन्ध में मिली जानकारी के मुताबिक़ सीतापुर के आरा पंचायत में मिठुपारा मोहल्ले का निवासी पिलंम राम चौहान पिता मंगलू घर में बैठकर पैर दर्द से राहत पाने तेल मालिश कर रहा था तभी उनके पहचान के रिश्तेदार आराम चौहान निवासी गिरुलडीह ने उसे बताया की गरुड़ पेड़ के जड़ का रस पिने से वर्सो पुराना दर्द भी ठीक हो जाता है तो पिलम  ने बताया की गरुड़ का पेड़ तो उसके खेत में ही है चलो लाकर पीते है दोनों ने खेत जाकर जड़ लाया और घर में ही पीसकर पिने लगे चूँकि पिलंम राम को दर्द ज्यादा था तो उसने ज्यादा मात्र में सेवन कर ली वही आराम चौहान ने भी रस का सेवन किया और अपने बेटी के घर चला गया कुछ देर में दोनों की तबियत बिगड़ने लगी/जिसे देख परिजनों ने  उपचार के लिए वाहन की व्यवस्था कर  सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र आने की तैयारी शुरू कार दी इसी दौरान पिलम की मौत हो गयी वही आराम चौहान को गंभीर हालत में सीतापुर स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया जहा उसकी स्थिति को देखते हुवे अम्बिकापुर मिशन अस्पताल रिफर कर दिया गया है/

बिना जांचे परखे कर दिया जड़ी-बूटी का सेवन

आज के आधुनिक हाइटेक दौर में भी ग्रामीण क्षेत्र में लोग बिना जांचे परखे ग्रामीण क्षेत्रों में इलाज के लिए जड़ी-बूटी का सहारा ले रहे हैं। सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास करने से पिलम ने खुद की जान ले ली और उसका दूसरा साथी  अचेत अवस्था में अस्पताल में पड़ा है। विदित हो की ग्रामीण क्षेत्रो में स्वास्थ्य सेवा की कमी और  सरकारी अस्पतालों में सुविधाओं का अभाव होने से ग्रामीण क्षेत्र में लोग या तो सुनी-सुनाई बातों पर गौर कर अपना इलाज कर रहे हैं या नीम-हकीमों की चंगुल में फंस कर अपनी सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *