July 13, 2020
Breaking News

1 जुलाई 2020 को संविलियन हेतु जलाएंगे दीप 2 वर्ष पूर्ण करने वाले हेतु संविलियन आदेश जारी किया जावे शासन ने अब तक नही किया है आदेश जारी- शिक्षक असमंजस में

1 जुलाई 2020 को संविलियन हेतु जलाएंगे दीप

2 वर्ष पूर्ण करने वाले हेतु संविलियन आदेश जारी किया जावे

शासन ने अब तक नही किया है आदेश जारी- शिक्षक असमंजस में

जनघोषणा पत्र के विषय को सरकार ने लिया है निर्णय

2 वर्ष की सेवा पूर्ण करने वाले शिक्षको का होना है संविलियन

हिंदी मीडियम शिक्षको के साथ भेदभावपूर्ण व्यवहार कर रही है सरकार

अम्बिकापुर
छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन सरगुजा के जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा ने मुख्यमंत्री, शिक्षामंत्री सहित प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा विभाग व संचालक लोक शिक्षण से 1 जुलाई 2020 को संविलियन हेतु आदेश जारी करने की मांग की है।
छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन सरगुजा के जिलाध्यक्ष मनोज वर्मा जिला उपाध्यक्ष काजेश, अनिल तिग्गा, राजेश गुप्ता, रामबिहारी गुप्ता, सुरित राजवाड़े, प्रदीप राय, रोहिताश शर्मा जिला महा सचिव अरविंद सिंह, करण जोगी मो नाजिम, जिला मीडिया प्रभारी कमलेश सिंह, प्रशांत चतुर्वेदी कोषाध्यक्ष नरेश पांडेय संयुक्त सचिव संजय चौबे, लव गुप्ता, संजय अम्बष्ट, विक्रम श्रीवास्तव, राजेश सिंह ( संयुक्त सचिव) राकेश दुबे ( सह सचिव) ने बताया है कि जनघोषणा पत्र में 2 वर्ष की सेवा पूर्ण करने वाले शिक्षक संवर्ग को संविलियन करने का उल्लेख है, जिसके तहत सरकार ने छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र में 2 वर्ष पूर्ण करने वाले शिक्षक संवर्ग के संविलियन की घोषणा की है।
किन्तु 2 वर्ष पूर्ण करने पर संविलियन करने संबंधी राजपत्र का प्रकाशन अब तक नही किया गया है, राजपत्र प्रकाशन में आपत्ति- दावा का भी समय होता है, और विधानसभा में लिए गए निर्णय का शासन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आदेश भी जारी नही किया गया है, जिससे संविलियन होने वाले शिक्षक संवर्ग में असमंजस है।
ज्ञात हो प्रदेश के कई विकासखंड में संविलियन हेतु जरूरी दस्तावेज जमा कराया गया है, किन्तु शासन के आदेश के बिना वह बेकार साबित हो रहा है, अच्छा होता कि प्रक्रिया उच्च स्तर से प्रारंभ होता।

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन ने पूर्व में 4 मई को भी मांग किया था, अब विलम्ब होने पर पुनः शासन से 1 जुलाई 2020 को 2 वर्ष पूर्ण करने वाले शिक्षक संवर्ग के संविलियन हेतु समय सीमा का कलेंडर बनाकर प्रक्रिया प्रारम्भ करने हेतु आदेश प्रसारित करने की मांग की गई है।

प्रदेश में अभी तक शिक्षक एल बी संवर्ग के पदोन्नति, क्रमोन्नति हेतु समुचित निर्णय नही लिया गया है, कोरोना के संकटकाल में समस्त कर्मचारियो का वेतनवृद्धि व महंगाई भत्ता अवरुद्ध है, शिक्षको के मन मे संविलियन को लेकर भी आशंका व्याप्त है, एसोसिएशन लगातार शासन से संपर्क कर प्रयासरत है कि शीघ्र आदेश जारी हो।
एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष मनोज वर्मा ने स्कूल शिक्षा विभाग पर हिंदी मिडियम शिक्षको के शोषण का आरोप लगाते हुए कहा है छत्तीसगढ़ में शासन के ज्यादातर स्कूल हिंदी मीडियम के है, जहाँ नियमित सेवारत सहायक शिक्षक को 12 हजार, शिक्षक को 16 हजार व व्याख्याता को 18 हजार रुपये मासिक वेतन दिया जा रहा है, वही संविदा व प्रतिनियुक्ति में सेवा के प्रारम्भ में ही इंग्लिश मीडियम स्कूल के लिए सहायक शिक्षक को 30234 रुपये, शिक्षक को 42503 रुपये व व्याख्याता को 45530 रुपये मासिक वेतन देने तय किया गया है, यह भेदभाव पूर्ण शिक्षको का वेतन निर्धारित कर हिंदी मिडियम स्कूल को गौड़ बनाया जा रहा है, इस संबंध में छत्तीसगढ़ शासन, स्कूल शिक्षा विभाग के अर्द्धशासकीय पत्र 627 दिनांक 13 जून 2020 का पत्र उल्लेखित है।

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन ने कहा है कि 30 जून तक 2 वर्ष में संविलियन का आदेश जारी नही किये जाने पर 1 जुलाई को संविलियन दीप जलाकर मांग शासन से पुनः मांग पहुंचाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *