November 29, 2021
Breaking News

चुनाव आयोग ने ‘पप्पू’ शब्द का इस्तेमाल करने से बीजेपी को रोका

चुनाव आयोग ने ‘पप्पू’ शब्द का इस्तेमाल करने से बीजेपी को रोका
नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात चुनाव की तारीखों के एलान के बाद से पार्टियों से जीत के लिए प्रचार का जोश देखते बन रहा है। हर कोई अगल अगल तरीकों से विरोधियों के घेरने में लगा हुआ है। ऐसे में चुनाव आयोग ने गुजरात में सत्ताधारी भाजपा को इलेक्ट्रानिक प्रचार में एक शब्द के प्रयोग के लिए मना कर दिया चुनाव आयोग ने बीजेपी के ‘पप्पू’ शब्द का इस्तेमाल करने से रोक दिया है। यह शब्द कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आयोग ने इसे आपत्तिजनक कहा है।बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधने के दौरान अक्सर सोशल मीडिया पर पप्पू शब्द का इस्तेमाल किया जाता है. यही वजह है कि चुनाव आयोग ने इस बात को ध्यान में रखते हुए बीजेपी को इसके इस्तेमाल से रोक दिया.

चुनाव आयोग के इस कदम की पुष्टि करते हुए बीजेपी सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि प्रचार सामग्री में किसी शब्द का किसी व्यक्ति से संबंध नहीं है। गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने पिछले महीने पार्टी द्वारा सौंपी गई प्रचार सामग्री में इस शब्द पर आपत्ति जताई है।

बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘चुनाव से संबंधित कोई भी प्रचार सामग्री तैयार करने से पहले इसे समिति को सौंपना होता है। समिति उसका प्रमाणपत्र देती है। हालांकि समिति ने पप्पू शब्द पर आपत्ति जताई है क्योंकि इसे अपमानजनक माना है। समिति ने हमसे इसे हटाने या उसकी जगह दूसरे शब्द का इस्तेमाल करने के लिए कहा है।वहीं, उन्होंने कहा कि पार्टी इस शब्द को हटाकर दूसरी स्क्रिप्ट चुनाव आयोग को सौंपेगी। पप्पू शब्द का किसी व्यक्ति विशेष से जुड़ा नहीं होने का पक्ष रखते हुए फैसले पर विचार करने के लिए कहा था। लेकिन उन्होंने इसे नामंजूर कर दिया।दूसरी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने कार्यकर्ताओं को समझाया कि बीजेपी और नरेंद्र मोदी से हमारे मतभेद हैं, इसलिए हम उनका विरोध करेंगे लेकिन प्रधानमंत्री पद का अनादर नहीं करेंगे। इससे पहले भी कांग्रेस की एक सभा में ‘नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद’ का नारा लगने पर वह लोगों को टोक चुके हैं। उनका कहना था कि मोदी हमारे राजनीतिक विरोधी हैं, इसलिए हम उनसे लड़ेंगे और उन्हें हराएंगे लेकिन मुर्दाबाद जैसे शब्द हम किसी के लिए नहीं कहेंगे।सोशल मीडिया में राहुल पर अक्सर इस शब्द के जरिये ही तंज कसे जाते हैं। इसकी पुष्टि करते हुए भाजपा के सूत्रों ने मंगलवार को कहा, ‘विज्ञापन की स्क्रिप्ट में इस्तेमाल हुआ शब्द किसी व्यक्ति विशेष से संबद्ध नहीं है।’ भाजपा सूत्रों के अनुसार, गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) के तहत आने वाली मीडिया कमेटी ने एक विज्ञापन में इस्तेमाल किए गए शब्द पर आपत्ति जताई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *