August 5, 2021
Breaking News

शराब कारोबारी केडिया ग्रुप से 300 एकड़ जमीन, 5 करोड़ कैश जब्त

शराब कारोबारी केडिया ग्रुप से 300 एकड़ जमीन, 5 करोड़ कैश जब्त
हरितछत्तीसगढ़ रायपुर। केडिया समूह पर आयकर विभाग के छापे में अघोषित संपत्ति का खुलासा हुआ है. छापे में 300 एकड़ ज़मीन और बोगस कंपनी के तहत निवेश के कागज़ात मिले हैं.साथ ही 5 करोड़ रुपए नगद 3 किलो सोना साथ में 4 लॉकर को सील किए गए हैं. विदित हो कि .विभाग ने ग्रुप पर छत्तीसगढ़ और मप्र सहित छह राज्यों में एक साथ कार्रवाई की। प्रारंभिक जांच में ग्रुप के ऑफिस में ऐसे दस्तावेज मिले हैं, जिसमें शैल कंपनियां होने की जानकारी है। यह कंपनियां कितनी हैं और इसमें कितनी राशि शिफ्ट हुई है, विभाग इसका हिसाब लगा रहा है। साथ ही यह भी देख रहा है कि ग्रुप ने कहीं शैल कंपनियों का उपयोग नोटबंदी के दौरान काला धन जमा कराने के लिए तो नहीं किया था। केडिया समूह के रायपुर, दुर्ग स्थित डिस्टलरी, वेयरहाउस समेत मालिक नवीन केडिया के भिलाई में नेहरू नगर के मकान, ग्रुप से संबंधित के कई ठिकानों व घरों पर छापा मारा गया है। बताया जा रहा है कि आयकर विभाग की यह जिले में अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। इसमें आयकर विभाग के 100 से भी अधिक अधिकारी-कर्मचारी और सुरक्षाबल के जवान शामिल हैं। भोपाल से भी दर्जनभर अधिकारी पहुंचे हैं। राज्य सरकार भी शराब बेचने के लिए केडिया समूह से बड़ी मात्रा में शराब खरीदती है।जांच टीमों ने केडिया समूह के संचालकों के साथ शेयर होल्डरों के यहां भी छापे मारे हैं। अफसरों की टीम समूह के शेयर होल्डरों के यहां दस्तावेजों की जांच कर रही है। जांच-पड़ताल दो-तीन दिन तक जारी रहने का अनुमान है। सूत्रों के मुताबिक भिलाई में नेहरूनगर में दो बंगले में अधिकारी जांच कर रहे हैं। वहां मालिक से पूछताछ हुई है। सुरक्षा के लिए बंगले के बाहर पुलिस तैनात है। ग्रुप के मालिक नवीन केडिया बताए जा रहे हैं। ग्रुप के बड़े अफसरों के घरों की भी तलाशी ली जा रही है। देर रात तक कुम्हारी फैक्ट्री में करीब 10 और बंगले में 5 अफसरों की टीम फाइलों को खंगालने में जुटी हुई थी टर्नओवर 296 करोड़ और सालाना टैक्स 10 करोड़ एसोसिएट एल्कोहल एंड ब्रेवरीज लिमिटेड कंपनी का कामकाज बीते सालों में लगातार बढ़ रहा था और यह देश की टॉप टेन शराब कंपनियों में शामिल है। साल 2016-17 की बैलेंस शीट के हिसाब से कंपनी का सालाना टर्नओवर 296 करोड़ रुपए था, इस पर कंपनी ने टैक्स दस करोड़ जमा कराया था और टैक्स काटकर नेट प्रॉफिट 17 करोड़ बताया था। साल 2015-16 में कंपनी का टर्नओवर 287 करोड़ रुपए था, सरकार को टैक्स नौ करोड़ जमा कराया गया था, टैक्स काटकर नेट प्रॉफिट 14 करोड़ था ।कर चोरी की शिकायत के बाद चार महीने से रखी जा रही थी नजर सूत्रों के मुताबिक छत्तीसगढ़ डिस्टलरीज लिमिटेड में बड़े पैमाने पर कर चोरी की शिकायत मिलने के बाद आयकर विभाग ने रेड करने के पूर्व जानकारी जुटाने में कड़ी मशक्कत की। बताया गया कि बीते चार महीने से विभाग की इंटेलिजेंस विंग की एक टीम इसी काम में जुटी हुई थी। शिकायत के पुख्ता होने पर बीते मंगलवार की सुबह एक साथ छह राज्यों में कंपनी के 39 ठिकानों में दबिश दी गई। इंदौर के एक सहायक आयुक्त स्तर के अफसर के नेतृत्व में करीब 15 अफसरों की दो अलग-अलग टीमों ने कंपनी के कुम्हारी स्थित फैक्ट्री और नेहरू नगर स्थित निवास में एक साथ छापा मारा। जांच में भिलाई के भी चार विभागीय अफसर शामिल थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *