July 25, 2021
Breaking News

बिलासपुर में आईएसआई से जुड़े चार स्थानीय लोग पुलिस गिरफ्त में

बिलासपुर में आईएसआई से जुड़े चार स्थानीय लोग पुलिस गिरफ्त में
बिलासपुर पुलिस ने आईएसआई संगठन से जुड़े 4 स्थानीय आतंकियों को पकड़ने में सफलता पाई है पकड़े गए चारो आतंकी छत्तीसगढ़ के स्थानीय निवासी है जिनके तार पाकिस्तान से फोन के माध्यम से जुड़े है। इस मामले में पुलिस ने जम्मू-कश्मीर के बारामूला में एलओसी ट्रेडर्स के ठिकानों पर दबिश देकर सीपीयू, हार्ड डिस्क आदि जब्त किया है।
प्रशिक्षु आईपीएस शलभ सिन्हा ने प्रेस कांफ्रेंस कर मामले का खुलासा करते हुए बताया कि इनके तार पाकिस्तान से डायरेक्ट फोन कॉल से जुड़े थे। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के भोपाल एटीएस ने बीते फरवरी में सतना समेत कई अन्य ठिकानों में रेड डाली थी। इसमें आईएसआई नेटवर्क का खुलासा हुआ था। इसके बाद से केंद्रीय खुफिया एजेंसी ने पूरे देश में आईएसआई नेटवर्क की गतिविधियों पर नजर रखने अलर्ट जारी किया था। इसके बाद खुफिया सूचना के आधार पर आईजी पुरुषोत्तम गौतम और एसपी मयंक श्रीवास्तव के निर्देश पर बिलासपुर की सिविल लाइन पुलिस भी सक्रिय हुई। पुलिस को सूचना मिली कि जांजगीर-चांपा निवासी संजय देवांगन की जम्मू-कश्मीर पुलिस को तलाश है। उस पर अपने सहयोगियों के साथ मिलकर आईएसआई नेटवर्क के लिए काम करने का आरोप है। पुलिस ने जानकारी जुटाकर संजय के साथ ही आरोपी अकलतरा निवासी मनींद्र यादव, अवधेश दुबे और धमेंद्र यादव को पकड़कर पूछताछ की, तब खुलासा हुआ कि सतना निवासी रज्जन तिवारी का मामा गांव अकलतरा में है और वह कुछ समय पहले अकलतरा आकर इन युवकों का बैंक अकाउंट खुलवाया था। उनके एटीएम कार्ड को लेकर चला गया था। इस दौरान मनींद्र और धर्मेंद्र यादव को नौकरी दिलाने के नाम पर दिल्ली में रखा था।आरोपी संजय देवांगन का लिंक जम्मू-कश्मीर में पकड़े गए जासूस सतविंदर सिंह से है। दोनों के बीच बातचीत के साथ ही रुपयों का लेन.देन भी हुआ है। इसके बाद पुलिस ने दिल्ली में दबीश दी। यहां पता चला कि गिरफ्तार स्थानीय युवकों को आईएसआई नेटवर्क से जोड़ने का जरिया रज्जन तिवारी था और उसने ही दिल्ली में अब्दुल जब्बार से उनकी मुलाकात कराई थी। पुलिस ने इस मामले में रज्जन तिवारी के साथ ही अब्दुल जब्बार को भी गिरफ्तार किया। इकसे अलावा जम्मू-कश्मीर जेल से सतविंदर सिंह की भी गिरफ्तारी की गई। जांच में पता चला कि अब्दुल जब्बार कारोबार की आड़ में पाकिस्तानी एजेंट तक रकम पहुंचाता था। वह नजीर एंड कंपनी और आबिद ट्रेडर्स के संचालक आशु उर्फ पीर अशरद के लेटर पैड से सामान पाकिस्तान भेजता था। बता दें कि पीर अशरद बारामुला का रहने वाला है और एलओसी ट्रेडर्स का काम करता है। बीते 23 अगस्त को सिविललाइन टीआई नसर सिद्दिकी और उनकी टीम ने दिल्ली पाहवा होटल में दबीश देकर पीर अशरद को भी गिरफ्तार किया था। इस कारोबार की आड़ में मिली अवैध रकम को वह हुर्रियत सहित अन्य अलगाववादी संगठनों व कार्यकर्ताओं तक पहुंचाता था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *