Sharing is caring!

इस पिछड़े इलाके की तस्वीर बदल देगा आदिवासी केंद्रीय विश्विद्यालय

उरांव समाज के समाज सुधारक और सांसद कार्तिक उरांव का सपना था यह विश्वविद्यालय

हरितछत्तीसगढ़ मुकेश नायक 

जशपुर:जशपुर जिले से लगे झारखण्ड के गुमला के मांझाटोली में 18 नवम्बर को अंतर्राज्यीय जन सांस्कृतिक समागम समारोह सह कार्तिक जतरा का आयोजन किया गया है, इस कार्यक्रम को आदिवासी  शक्ति स्वायत्तशासी विश्वविद्यालय के निर्माण समिति झारखण्ड और छत्तीसगढ़ के सयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया जा रहा है। गुमला विधायक शिवशंकर उरांव ने बताया कि इस स्वायत्तशासी विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए छत्तीसगढ़ और झारखण्ड दोनों सरकारे जमीन देगी तो केंद्र सरकार धन राशि उपलब्ध करायेगी यह विश्वविद्यालय जेएनयू और बीएचयू के तर्ज पर आवासीय विश्वविद्यालय स्थापित करने की योजना है इसके निर्माण के लिए हावर्ड और टोक्यो विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर मदद कर रहे है गुमला विधायक का कहना है कि विश्वविद्यालय की आधारशिला अगले वर्ष प्रधानमंत्री द्वारा रखी जायेगी

जिससे कार्तिक उरांव का अधूरा सपना पूरा होगा कार्तिक उरांव ने 1981 में केंद्र सरकार के सामने विश्वविद्यालय स्थापना की व्यापक परिकल्पना प्रस्तुत की थी उनकी असमय मृत्यु से उनकी परिकल्पना को अमलीजामा नही पहनाया जा सका और यह परियोजना अधूरी रह गयी।।                        इस कार्यक़म में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और झारखण्ड के मुख्य मंत्री रघुवर दास के शामिल होने के कारण सिक्योरिटी की चाक चौबंद व्यवस्था की गयी है केंद्रीय जनजाति मंत्री जुएल उरांव, केंद्रीय राज्य मंत्री सुदर्शन भगत, केंद्रीय राज्य मंत्री विष्णुदेव साय, राज्य सभा सांसद रणविजय सिंह जूदेव, वन औषधी बोर्ड के अध्यक्ष रामप्रताप सिंह शामिल होंगे।

Sharing is caring!