August 5, 2021
Breaking News

शिक्षाकर्मी,अनिश्चितकालीन धरने का आगाज”

“अनिश्चितकालीन धरने का आगाज”

*बसन्त चन्द्रा सक्ति*:- जांजगीर-चांपा जिले के शैक्षणिक जिला सक्ती के विकासखंड सक्ती के अंतर्गत कार्यरत  पंचायत संवर्ग के समस्त शिक्षक, शिक्षक पंचायत एवं नगरीय निकाय संयुक्त मोर्चा के बैनर तले अपने  9 सूत्रीय मांगों को लेकर के अनिश्चितकालीन धरना के लिए निर्धारित तिथि अनुसार आज दिनांक 20 नवंबर को पूरी ऊर्जा के साथ बैठेंगे।

 विदित हो कि विगत 20- 22 वर्षों से पंचायत संवर्ग के शिक्षक शासन के द्वारा छले जा रहे हैं तथा शासन उनका आज तक दोहन करते आ रही है। किंतु आज पर्यंत उन्हें सम्मानजनक शासकीय कर्मचारी का दर्जा प्राप्त नहीं हुआ है । स्थिति यह बन पड़ी है कि बहुत बड़ी संख्या में पंचायत सवर्ग के शिक्षक अपने जीवन का बहुत अधिक समय गवां चुके हैं एवं शासन की सेवा करते हुए भी अंत में उनके हाथों कुछ नहीं लगने वाला है । इस प्रकार एक निर्धारित आयु पूरी करने के बाद सरकार के द्वारा उन्हें खाली हाथ बाहर का रास्ता दिखा दिया जावेगा। ऐसी स्थिति में उन पंचायत संवर्ग के शिक्षकों के पास शेष बची जिंदगी दर बदर की ठोकरे खाते हुए बीतेगी। विदित हो कि शासन के द्वारा विभिन्न अवसरों में पंचायत संवर्ग के शिक्षकों के साथ दमनकारी नीति अपनाते हुए उन्हें नौकरी से बाहर करने का भय दिखाते हुए इनकी पूर्व के हड़ताल को ध्वस्त किया था ।किंतु अब की बार शिक्षक पंचायत मोर्चा के बैनर तले संजय शर्मा, केदार जैन, जैसे प्रांतीय नेताओं के नेतृत्व में मोर्चा एक बार फिर से अपनी मांगों के लिए लामबंद हो चुके हैं। पूरे प्रदेश सहित विकासखंड सक्ति के पंचायत सवर्ग के शिक्षक ब्लॉक अध्यक्ष महेंद्र राठौर के नेतृत्व में आंदोलन के लिए धरने पर बैठेगे।

“अभी नहीं तो कभी नहीं”

:- ब्लॉक अध्यक्ष महेन्द्र राठौर का कहना है कि छत्तीसगढ़ सरकार आज तक हमारे साथ छलावा करते आ रही है। अभी पूरे प्रदेश में सभी पंचायत सवर्ग के शिक्षक साथी एकता का परिचय देते हुए हड़ताल के लिए लामबंद हुए हैं। अतः हमें मोर्चा के बैनर तले अपनी 9 सूत्री मांगों को किसी भी स्थिति में लेना है, जो कि हमारा जायज हक है। उन्होंने सक्ति विकासखंड के समस्त नगरीय एवं पंचायत संवर्ग के शिक्षकों को आह्वान किया है कि पूरे तन मन धन से हड़ताल को सफल बनाने में अपना योगदान दे। उन्होंने कहा है कि यह लड़ाई निर्णायक लड़ाई है। इसके उपरांत पंचायत शिक्षक सम्मान पूर्वक अपनी जिंदगी जी सकते हैं।

“करो या मरो की स्थिति है” ब्लॉक के अध्यक्ष महेंद्र राठौर के नेतृत्व में सक्ती विकास खंड के शिक्षक करो या मरो की  मनःस्थिति निर्मित कर आंदोलन का आगाज किये है । महेन्द्र राठौर के नेतृत्व में संघ के शिक्षकों में एक नई ऊर्जा भर चुकी है।अध्यक्ष ने आह्वान करते हुए कहा है की अभी  हमें शासन की किसी प्रकार के हथकंडों या कार्यवाही अथवा भय से डरने की आवश्यकता नहीं हैं । इस प्रकार सभी शिक्षक इस जंग को “अभी नही तो कभी नही” अंतिम जंग मान रहे हैं तथा कह रहे हैं  कि  अपनी समस्त मांगों को लेकर के सम्मान वापस जाएंगे।

अब आगे देखना है कि इनकी इस जंग का क्या परिणाम निकलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *