November 29, 2021
Breaking News

संविलियन नकारना सरकार की मनमानी: अजीत जोगी

संविलियन नकारना सरकार की मनमानी: अजीत जोगी

हरितछत्तीसगढ़ रायपुर 21.11.2017। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के संस्थापक अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने शिक्षाकर्मियों के संविलियन के मुददे को भाजपा सरकार द्वारा सिरे से नकार दिये जाने को शिक्षको की जायज मांगो के प्रति बेरूखी की संज्ञा दी है तथा कहा है कि शिक्षाकर्मियों की जायज मांगो को नकार कर शासन ने यह सिध्द कर दिया है कि रमन सरकार निरूकुश हो चुकी है तथा  मनमानी पर उतारू है। लगभग 15 वर्ष सत्ता में रह कर भाजपा सरकार के मुखिया डाॅ रमन सिंह सहित सभी मंत्रीगण बेलगाम हो गये है। 14 वर्षो के एैशो आराम एवं सत्ता सुख में मस्त भाजपा सरकार ने शिक्षाकर्मियों की समस्याओं की ओर देखना एवं उस पर सकारात्मक अमल करने को अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया है जो रमन सरकार के निरंकुश शासन प्रशासन का ज्वलंत उदाहरण है।

श्री जोगी ने शिक्षाकर्मियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए कहा है कि शिक्षाकर्मियों को अब केवल एक वर्ष का इंतेजार करना होगा उसके बाद जकांछ की सरकार बनते ही सम्माननीय गुरूजनों की सभी जायज मांगे पूरी हो जायेगी क्योंकि शिक्षको की भावनाओं से खिलवाड़ को शिक्षक जगत कदापि बर्दास्त करने वाली नहीं है तथा अगामी चुनाव में इस उपेक्षा का बदला भाजपा सरकार को अपदस्थ कर अवश्य लेगी। सरकारी स्कूलों में ताले लग गये है इससे स्पष्ट है कि सरकार प्रदेश के भावी पीढ़ी के भविष्य के प्रति फिकरमंद नहीं है। भाजपा सरकार ने शिक्षाकर्मियों  की जायज मांगो को नकार कर भाजपा की प्रदेश में भावी पराजय का मार्ग प्रशस्थ कर दिया है क्योंकि शासन की इस बेरूखी से 1 लाख 80 हजार शिक्षाकर्मी एवं उनके सगे संबंधियों का भविष्य अंधकारमय हो गया है।

2 thoughts on “संविलियन नकारना सरकार की मनमानी: अजीत जोगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *