August 5, 2021
Breaking News

छग सरकार के निर्देश: स्थानीय बारहवी पास युवा पढ़ाएंगे स्कूल के बच्चों को

फाइल फोटो

छग सरकार के निर्देश: स्थानीय बारहवी पास युवा पढ़ाएंगे स्कूल के बच्चों को

फाइल फोटोफाइल फ़ोटो

हरितछत्तीसगढ़ रायपुर : राज्य सरकार ने पंचायत संवर्ग के शिक्षकों के अनिश्चितकालीन आंदोलन अवधि में प्राइमरी स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई जारी रखने के लिए ग्राम पंचायतों में बारहवी पास स्थानीय युवाओ से अध्यापन कार्य करवाने की तैयारी शुरू कर दिया है इस सम्बंध में अधिकारियों को व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। अब इन स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई जारी रखने के लिए ग्राम पंचायतों द्वारा बारहवीं पास स्थानीय युवाओं को अध्यापन कार्य के लिए आमंत्रित किया जाएगा। इन युवाओं को संबंधित जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा अनुभव प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा, जो भविष्य में ग्रामीण क्षेत्रों की सेवाओं में नियुक्ति के समय अनुभव प्रमाण पत्र के रूप में मान्य होगा।वही मध्यान्ह भोजन प्रभावित न हो इसके लिए ग्राम पंचायत को वैकल्पिक व्यवस्था के भी निर्देश दिए गए है।

पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव एमके राउत ने इस सिलसिले में सभी जिला पंचायतों और जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को परिपत्र जारी किया है। उन्होंने परिपत्र में कहा है कि ये शिक्षक 20 नवम्बर से अनिश्चित कालीन आंदोलन पर हैं। उनकी हड़ताल अवधि में ग्राम पंचायत क्षेत्रों में स्थित प्राइमरी स्कूलों का संचालन सुचारू रूप से हो और वहां पढ़ाई में रूकावट न हो इस दृष्टि से वैकल्पिक व्यवस्था की जाए। इसके अंतर्गत सरपंच के द्वारा गांव के ही 12वीं कक्षा उत्तीर्ण युवाओं को अध्यापन कार्य के लिए संबंधित प्राथमिक शाला में ग्राम पंचायत के स्तर पर स्वैच्छिक रूप से आमंत्रित किया जाए। इन स्कूलों में बच्चों की मध्यान्ह भोजन व्यवस्था प्रभावित न हो इसके लिए संबंधित ग्राम पंचायत के सरपंच आवश्यक प्रबंध करें। अगर मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था प्रभावित होती है तो इसके लिए ग्राम पंचायत अपनी ओर से कोई वैकल्पिक व्यवस्था कर सकती है। इस कार्य में ग्राम पंचायतों के सचिवों और स्व-सहायता समूहों का सहयोग लिया जाए।परिपत्र में लिखा है कि जिन स्थानीय युवाओं द्वारा प्राथमिक स्कूलों में अध्यापन कार्य किया जाएगा, उन्हें संबंधित जिला पंचायत के सीईओ अनुभव प्रमाण पत्र देंगे, जो भविष्य में ग्रामीण क्षेत्रों की सेवाओं में नियुक्ति के समय अनुभव प्रमाण पत्र के रूप में मान्य होगा। परिपत्र में अधिकारियों से कहा गया है कि इस प्रकार की वैकल्पिक व्यवस्था में अगर किसी के द्वारा हस्तक्षेप किया जाता है तो उसके विरूद्ध पुलिस कार्रवाई की जाए। परिपत्र में यह भी कहा गया है कि संबंधित मुख्य कार्यपालन अधिकारी अपने जिले की सभी ग्राम पंचायतों के सरपंचों और ग्राम पंचायत सचिवों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहें कि स्कूलों में अध्यापन कार्य निरंतर हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *