December 4, 2020
Breaking News

छत्तीसगढ़-पुलिस महानिदेशक के मंशानुरूप वरिष्ठ-नागरिकों की सुविधा हेतु “समर्पण-अभियान” के तहत वृद्ध-आश्रम पहुंचे पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल।

छत्तीसगढ़-पुलिस महानिदेशक के मंशानुरूप वरिष्ठ-नागरिकों की सुविधा हेतु “समर्पण-अभियान” के तहत वृद्ध-आश्रम पहुंचे पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल।

वरिष्ट-बुजुर्गो की देखरेख हम सबकी सामाजिक-जिम्मेदारी वृद्धाश्रम,,,,पहुच बुजुर्गों को बताये उनके कानूनी-अधिकार।

जिले के थाना-चौकी प्रभारी द्वारा वृद्धजनों की बैठकें लेकर सुनी जा रही है,,उनकी समस्याएं,,,किए जा रहे है निराकरण के प्रयास।

*दिनांक:-30/10/2020*

*संवाददाता:-मोहम्मद जावेद खान करगी रोड कोटा हरित छत्तीसगढ़।*

बिलासपुर/कोटा:-बिलासपुर जिले में चलाए जा रहे “समर्पण अभियान” की रूपरेखा तैयार करने के बाद थाना सिविल लाइंस के अन्तर्गत दीनदयाल-कॉलोनी के पास मदर टेरेसा मिशनरी आशा भवन वृद्धाश्रम में बुजुर्गों की समस्याओं से रूबरू होने बिलासपुर एसपी प्रशांत अग्रवाल विशेष रुप से वृद्धाश्रम में रह रहे वृद्धजनों की समस्याएं सुनने पहुचे, पुलिस-अधीक्षक ने अपने उद्बोधन में कहा कि पुलिस विभाग चाहता है, कि समाज में कोई भी कही भी उपेक्षित ना रहे सभी को सामाजिक-सम्मान एवं कानूनी-मदद मिले, छत्तीसगढ़ पुलिस विभाग के महानिदेशक डीएम अवस्थी जी के माध्यम से “समर्पण अभियान” की शुरूवात प्रदेश के 5 जिलों से की जा रही है इस अभियान के तहत बिलासपुर जिले में बुजुर्गों के कल्याण, सम्मान के लिए कुछ करने का मौका मिला है, वे “समर्पण अभियान” के तहत जिले में आगे की कार्य योजना पर उपस्थित लोगों से संक्षिप्त-चर्चा कर बताए कि जिला पुलिस सीनियर सिटीजन तथा ऐसे असहाय वृद्धजन जो अपने आप को उपेक्षित या असहाय समझते हैं जिन्हें कानूनी सहायता की आवश्यकता है, उन्हें कानूनी सहायता प्रदान की जाएगी, हमारे आसपास कई बुजुर्ग-सीनियर-सिटीजन ऐसे हैं, जिनके अपने ही उन्हें उपेक्षित करते हैं, परंतु ज्यादातर मामलों में बुजुर्ग ही अपनों की शिकायत करने थाने नहीं आते हैं, ऐसे उपेक्षित असहाय-वृद्धजनों तक अब बिलासपुर पुलिस पहुंचेगी।*


*बुजुगों के लिये मेंटेनेंस एंड वेलफेयर आफ पैरंट्स एंड सीनियर सिटीजन एक्ट 2007 लाया गया है, जो वर्ष 2008 से प्रभावशील है, इस कानून के अनुसार अपने माता-पिता, बुजुर्गों की देखभाल नहीं करने वालों को जेल तक भेजने का प्रावधान है, ऐसे वृद्धजन ऐसे मामलों में भरण-पोषण के लिये मासिक खर्च की मांग कर सकते हैं, ऐसे मामले अगर हमारे पास आते हैं तो उनकी हर प्रकार से मदद की जाएगी, इस अभियान को अमली जामा पहनाने के लिए बिलासपुर पुलिस विभाग सदस्यता-अभियान चला कर असहाय जरूरतमंदों का पंजीयन कराकर उनकी समस्याओ का निराकरण करेगी, साथ ही उनकी समस्याओं का निराकरण हुआ है, की नहीं उस पर भी नजर बनाए रखने के साथ-साथ उसका फालोअप लेते रहेगी साथ ही वृद्धजनों के लिये कार्य कर रहे समाज कल्याण विभाग, एनजीओ के साथ मिलकर वृद्धजनों को हर प्रकार की मदद मुहैया करायेगी, इस अभियान के दौरान जिन तक पुलिस नही पहुंच पा रही है वे भी अपना रजिस्ट्रेशन पुलिस अधीक्षक कार्यालय, जिले के संबंधित थाने-चौकी में सीनियर सिटीजन प्रपत्र भरकर जमा कर सकते हैं, अथवा सीनियर सिटीजन के ईमेल, हेल्पलाइन नंबर,पुलिस कंट्रोल रूम में संपर्क कर सकते हैं।*

*वृद्ध-आश्रम में रहने वाले कोई भी बुजुर्ग-महिला-पुरुष अगर अपने घर वापस जाना चाहता है, और अगर उनके अपने उन्हें पास रखना नहीं चाहते तो ऐसे प्रकरणों पर गंभीरता से कार्यवाही करने का भी पुलिस विभाग के द्वारा आश्वासन दिया गया है, समर्पण-अभियान के तहत बिलासपुर पुलिस अधीक्षक की वृद्ध-आश्रम में उपस्थित रहने के दौरान अतिरिक्त पुलिस-अधीक्षक शहर उमेश कश्यप, सीनियर-सिटीजन सेल के जिला-नोडल अधिकारी सहायतार्थ श्रीमती रश्मीत कौर चावला एसडीओपी कोटा, कोटा थाना प्रभारी प्रकाशकांत, सकरी थाना प्रभारी रविंद्र यादव उपस्थित रहे, इसके अलावा ठंड की शुरुआत को देखते हुए वृद्धजनों को भेंट स्वरूप गीजर, वैसलीन, फल, मास्क सैनिटाइजर आदि का वितरण किया भी किया जा रहा है, इसी क्रम में जिले के विभिन्न थाना चौकी प्रभारियों द्वारा अपने-अपने क्षेत्र के वृद्धजनों के साथ बैठकें लेकर उनकी समस्याओं को सुना जा रहा है, जिसमें विशेषकर उनकी शिकायतों स्वास्थ्य-वृद्धावस्था पेंशन एवं उनसे की जाने वाली दुर्व्यवहार,उपेक्षा की जानकारी भी ली जा रही है।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *