August 5, 2021
Breaking News

भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर निकाली मसाल रैली

हरित छत्तीसगढ़ विवेक तिवारी पत्थलगांव। भारत छोड़ा आंदोलन की 75 वीं वर्षगांठ पर भाजपा के शहर मण्डल कार्यकर्ताओं ने पंचायती धर्मषाला से मसाल रैली निकालकर इंदिरा चौक के पास समाप्त की । उनके द्वारा महात्मा गांधी व स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धासुमन अर्पित किया गया।
इस अवसर पर मण्डल अध्यक्ष संजू लोहिया ने कहा कि 1942 से 1947 तक भारत छोड़ो आंदोलन भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का एक महत्वपूर्ण व निर्णायक संघर्ष था। 9 अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत मानी जाती है लेकिन इसका आरंभ 8 अगस्त 1942 से हुआ था। 8 अगस्त 1942 को बंबई के गोवालिया टैंक मैदान पर अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति ने वह प्रस्ताव पारित किया था, जिसे भारत छोड़ो प्रस्ताव कहा गया। इसके बाद से ही ये आंदोलन व्यापक स्तर पर आरंभ किया गया। अजय बंसल ने कहा कि जनप्रतिनिधियों से दलगत राजनीति से ऊपर उठकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपनों का भारत बनाने का आह्वान करते हुए कहा कि देश से गरीबी, अशिक्षा, कुपोषण और भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए हमें 1942 के आंदोलन की दृढ़ इच्छाशक्ति को पुनर्जिवित करना होगा। यहां उपस्थित धनष्याम बेहरा न कहा कि बाल गंगाधर तिलक ने नारा दिया था स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा। आज हमें यह नारा देना है कि हम सब मिलकर देश से भ्रष्टाचार दूर करेंगे और करके रहेंगे, गरीबों को उनका अधिकार दिलाएंगे और देकर रहेंगे, कुपोषण की समस्या खत्म करेंगे और करके रहेंगे, महिलाओं की बेड़ियां तोड़ेंगे और तोड़कर रहेंगे, अशिक्षा खत्म करेंगे और करके रहेंगे। इस कार्यक्रम के दौरान भाजपा मण्डल अध्यक्ष संजय लोहिया, अजय बंसल, घनष्याम बेहरा, अवधेष गुप्ता, राहुल अग्रवाल, सुजीत गुप्ता, शुभम बंसल, हिमांषु शर्मा, जतीन अग्रवाल, विक्रम सिंह, अनुराग सिंह, मनोज चन्द्रा, जुगल किषोर सिंह, विवेक तिवारी समेत अन्य कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
10 अगस्त से 14 अगस्त तिरंगा यात्रा
मण्डल अध्यक्ष संजय लोहिया ने बताया कि 10 अगस्त से 14 अगस्त तक सभी मण्डलों में तिरंगा यात्रा निकाला जायेगा। आंदोलन से चरम पर पहुंचे त्याग, तपस्या, संघर्ष व बलिदान की प्रेरणा व स्मृतियों को स्थाई रखने भाजपा ने 10 से 14 अगस्त तक संकल्प से सिद्धि अभियान अंतर्गत शक्ति केन्द्रों व मण्डल से लेकर जिला स्तर तक विभिन्न कार्यक्रम क्रमशः स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को श्रद्धांजलि, मसाल रैली, तिरंगा यात्रा तथा 15 अगस्त को समस्त शक्ति केन्द्रां ध्वजारोहण कर अगस्त क्रांति के रूप में करने का निर्णय लिया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *