July 25, 2021
Breaking News

राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद का दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन

राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने 60671 अप्रशिक्षित शिक्षकों का दूरस्थ माध्यम से प्रशिक्षण एवं सफल क्रियान्वयन हेतु दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन

 मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार व राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयीन  संस्थान के द्वारा देश के समस्त प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में कार्यरत अप्रशिक्षित शिक्षकों को दूरस्थ माध्यम सेSCERT-NIOS द्वारा DEIEDप्रशिक्षण कराया जा रहा है इस प्रशिक्षण के संचालन के लिए MHRD ने राज्य शासन को कुछ महत्वपूर्ण दायित्व सौंपा है इसके अंतर्गत राज्य के 60471 पंजीकृत प्रशिक्षित शिक्षकों के लिए NIOS का 3 अक्टूबर से DEIED का पाठ्यक्रम लागू हो चुका है इस कार्यक्रम के प्रभावी क्रियांवयन के लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के द्वारा दो दिवसीय कार्यशाला दिनांक 27,28  नवंबर को राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया दूरस्थ शिक्षा के कार्यक्रमों को प्रभावी क्रियांवयन के लिए विभिन्न राज्यों के इग्नू तथा एनसीईआरटी और NIOS के विशेषज्ञों द्वारा इस कार्यशाला में सहभागिता की गई साथ ही बिहार दूरस्थ शिक्षा के पूर्व निदेशक श्री मोइन खान ने दूरस्थ शिक्षा प्रभारी बिहार मॉडल पर एवं अतुल डॉ नायक ने मध्य प्रदेश मॉडल पर प्रस्तुतीकरण दिया के श्री राकेश शर्मा ने इस मॉडल के बारे में पूरी जानकारी दी इसके साथ ही एनसीईआरटी में सीआइटी. के पूर्व संयुक्त संचालक राजाराम शर्मा शिक्षा और आईसीटी के उपयोग पर मार्गदर्शन प्रदान किया। इग्नू से आए हुए प्रो पूनम एवं प्रो विभा जोशी ने दूरस्थ शिक्षा के प्रभावी क्रियांवयन पर चर्चा की, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की प्राचार्य डा वंदना अग्रवाल ने अपने ओ. डी .एल. शोध उपाधि के निष्कर्ष से प्राप्त सुझाव से वर्तमान में डी. एल. ई डी. के कोर्स में शामिल करने के लिए संबंध में चर्चा की इसके पश्चात सेमिनार में समस्त प्रतिभागियों को चार विषय समूह में बांटा गया प्रथम दूरस्थ शिक्षा में मुद्दे एवं चुनौतियां द्वितीय विभिन्न राज्यों के दूरस्थ शिक्षा के मॉडल पर साझा अनुभव तृतीय दुरस्त शिक्षा केंद्रों की संपर्क कक्षाओं में भूमिका तथा अंतिम मानिटरिंग एवं क्रियांवयन पर समूह बनाकर ज्ञान चर्चा की गई उसके पश्चात समस्त समूह द्वारा प्रस्तुति दी करण किया गया इस दो दिवसीय सेमिनार का परिषद के संचालक सुधीर कुमार अग्रवाल एवम अन्य राष्ट्रीय विषय विशेषज्ञों द्वारा संचालन किया गया उपरोक्त सेमिनार से प्राप्त सभी सुझावों के आधार पर रिपोर्ट तैयार कर राज्य शासन के माध्यम से मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार एवं राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय संस्थान को भेजा जाएगा एवं समस्त उपयोगी सुझाव NIOS मॉडल में शामिल कर देश के सारे राज्यों के एस सी ई आर टी नोडल में इसे संदर्भ सामग्री के रूप में दिया जा सकता है जिससे सेवारत शिक्षकों का डी एल एड पाठ्यक्रम प्रशिक्षण कार्यक्रम मात्र सर्टिफिकेशन के लिए वर्ण शिक्षा में स्थाई बदलाव एवं लक्ष्य की पूर्ति के लिए समर्पित एवं कौशल युक्त बनाते हुए उन के माध्यम से बच्चों में शिक्षा का प्रभावी क्रियांवयन किया जा सके ।इस सेमिनार का मुख्य लक्ष्य सभी प्रदेशों के मास्टर ट्रेनर्स एवं राष्ट्रीय संस्थानों के दूरस्थ शिक्षा के अनुभव और उनके संदर्भ सामग्रियों को उपलब्ध कराना है इस दो दिवसीय सेमिनार की सभी देश के अन्य एन सी ई आर टी  एवं इग्नू आदि के राष्ट्रीय विशेषज्ञ एवं समस्त उपस्थित प्रतिभागियों के द्वारा सराहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *