January 20, 2022
Breaking News

अब ढाबे के तंदूरो में सिर्फ लकड़ी के कोयले जलेंगे

अब ढाबे के तंदूरो में सिर्फ लकड़ी के कोयले जलेंगे

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर।। पर्यावरण प्रदूषण रोकने के लिए रायपुर जिले में सख्त अभियान चलाया जा रहा है। क्षेत्र में स्थित ढाबों के लिए भी सख्त नियम बना दिए गए हैं। भट्ठी में केवल लकड़ी से बने कोयले काही इस्तेमाल किया जाएगा। तंदूर बनाने के लिए इसी कोयले का इस्तेमाल होगा। अगर कहीं भी शिकायत हुई तो ढाबा संचालक के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।शहर में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए होटल, रेस्तरां व ढाबों पर तंदूर में इस्तेमाल होने वाले पत्थर कोयला पर बैन लगाया जा रहा है।रिपोर्ट के अनुसार, होटल, रेस्तरां व ढाबों पर तंदूर में यूज होने वाले पत्थर कोयला से भी प्रदूषण बढ़ता है। क्षेत्र में हजारों की संख्या में होटल, रेस्तरां व ढाबे में तंदूर का उपयोग होता है। तंदूर से काफी मात्रा में धुआं निकलता है, जिससे पल्यूशन बढ़ता है। तंदूर से निकलने वाला धुआं काफी हानिकारक होता है।गुरुवार को कलेक्टर ओपी चौधरी ने आदेश जारी किया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण एक गंभीर समस्या है, जिसे दूर करने के लिए हर किसी का सामाजिक दायित्व है। कलेक्टोरेट के सभा कक्ष में आयोजित ढाबा संचालकों की बैठक में कलेक्टर ने व्यवस्था लागू करने की बात कही। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशानुसार जिला स्तर पर प्रदूषण को रोकने आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। ढाबा संचालक खाना बनाने के लिए व्यावसायिक गैस सिलेंडरों का उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *