September 17, 2021
Breaking News

जब पत्थलगांव विधायक पहुंच गये टमाटर बाजार तो किसानो ने उन्हें दे दिया टमाटर उपहार

संसदीय सचिव अचानक टमाटर बाजार पहुंच कर किसानों से की मुलाकात 

http://haritchhattisgarh.com

हरित छत्तीसगढ़ चन्द्र्चुड सिंह बाग़बहार //

पत्थलगांव विधायक व संसदीय सचिव शिवशंकर पैकरा  इन दिनों क्षेत्र के दौरे पर है इस मौके पर जब वे ग्राम पंचायत झिम्की का दौरा करने पहुंचे तो वहा बाजार लगा पाया इस बाजार में किसानो द्वारा भारी मात्र में टमाटर की आवक को देखते हुवे शिवशंकर ने बाजार में ही किसानो से हालचाल पूछना शुरू कर दिया अपने मध्य अपने विधायक को इस तरह रूबरू होते देख किसान फुले नही समय टमाटर की अच्छी पैदावार व धान बोनस  से उत्साहित किसानो ने पत्थलगांव विधायक पहुंच गये टमाटर बाजार तो किसानो ने विधायक को टोकरी समेत टमाटर उपहार स्वरूप भेंट करते हुवे धान बोनस का आभार जताया  इस मौके पर संसदीय सचिव ने  ग्राम पंचायत झिमकी पहुंच कर ग्रामीणों से रूबरू हुए। संसदीय सचिव श्री पैंकरा अंचानक झिमकी टमाटर बाजार पहुंचे तथा वहां के किसानों से मुलाकात कर  उनसे चर्चा करते हुए उनका हाल चाल जाना,मौजूद किसानों से भी बातचीत कर सुविधाए असुविधा से जुड़ी जानकारी ली साथ ही उन्होंने किसानों से कहा कि किसी भी प्रकार की असुविधा हो तो तत्काल मुझे बताएं। किसी भी स्तर पर किसानों को असुविधा नहीं होने दी जाएगी। इस मौके पर टमाटर उत्पादक किसान टमाटर का अच्छा दाम मिलनें से काफी खुश नजर आये। अंचानक अपने बीच पहुंचे पत्थलगांव  विधायक  पैंकरा को पाकर किसान बेहद खुश हुए,तथा  विधायक का स्वागत करते हुए किसानों ने विधायक को टमाटर भेंट किया। इस दौरान संसदीय सचिव शिवशंकर पैकरा के साथ लुड़ेग के मण्डल अध्यक्ष मनीष   अग्रवाल सहित क्षेत्र के किसान व ग्रामीण जन मौजूद थे/इस दौरान किसानो को सम्बोधित करते हुवे शिवशंकर पैंकरा ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार किसानों के हर सुख-दुख में सहभागी है, उन्हें किसी प्रकार की चिंता करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा किसानों के पसीने की एक-एक बूंद से फसल तैयार होती है। उनकी मेहनत का लाभ देने के लिए सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के साथ ही बोनस का वितरण कर रही है। श्री पैंकरा ने कहा कि किसानों की भलाई के लिए सर्वाधिक योजनाएं छत्तीसगढ़ में ही संचालित की जा रही है। उन्होंने कहा की एक समय था जब किसानों को 15 प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण मिलता था। इसे हमने शून्य प्रतिशत कर दिया है। छत्तीसगढ़ में किसानों को साढ़े सात हजार यूनिट निःशुल्क बिजली दे रहेे हैं।सौर सुजला योजना के तहत सोलर सिंचाई पम्प की कीमत लगभग साढ़े चार लाख रूपए होती है, लेकिन हमारी सरकार  किसानों को केवल 8 हजार से 10 हजार रूपए में दे रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *