November 29, 2021
Breaking News

लहसुन सब्जी है या मसाला,हाई कोर्ट ने पूछा एक हफ्ता में दे जवाब

लहसुन, सब्ज़ी है या मसाला? इस पर विवाद शुरू हो गया है. विवाद यूं ही हंसी-मज़ाक में नहीं हो रहा है बल्कि इसकी वजह काफी गंभीर है, मामला कोर्ट पहुंच चुका है.

लहसुन सब्जी है या मसाला, पहुंचा मामला कोर्ट तकटीम डिजिटल। केंद्र सरकार ने ‘एक देश एक कर’ के तहत जीएसटी लागू कर तो दिया है लेकिन जीएसटी को लेकर अब भी स्थितियां साफ नहीं हो पाई हैं। अब राजस्थान हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि वह बताएं कि लहसुन सब्जी है या मसाला? राज्य सरकार से यह सवाल हाई कोर्ट में दायर एक पीआईएल पर किया गया है। सरकार को एक हफ्ते के अंदर हाई कोर्ट में जवाब दायर करना है,उधर सरकार ने सब्जी व मसाले दोनों में टैक्स लिस्ट सम्मलित कर रखा है। जोधपुर के एक व्यापारी संघ ने इस मामले में याचिका लगाई है। लहसुनजिसकी सुनवाई हाईकोर्ट सरकार के पक्ष से नाराज दिखा। न्यायधीश संगीतराज लोढा ओर विनीत माथुर की खण्डपीठ इस मामले की सुनवाई कर रही है। वहीं अतिरिक्त महाधिवक्ता श्याम सुंदर ने जवाब के लिए हाईकोर्ट से एक दिन का समय मांगा है। याचिकाकर्ताओं का कहना था कि सरकार ने लहसुन को सब्जी और मसाला दोनों श्रेणी में रखा हुआ है। लेकिन सब्जी के रूप में लहसुन के बिकने पर जीएसटी नहीं लगता और मसाले के रूप में बेचा जाए तो जीएसटी लगता है। बता दे कि जोधपुर के आलू प्याज लहसुन विक्रेता संघ ने इस बारे में एक जनहित याचिका हाई कोर्ट में दायर की थी।इस विवाद को लेकर जोधपुर के आलू-प्याज़ और लहसुन विक्रेता संघ ने राजस्थान हाइकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की है. याचिका में उहोंने पूछा है कि आखिर लहसुन को अनाज मंडी में क्यों बेचें? हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा था कि सरकार स्पष्ट करे कि टैक्स के लिहाज से लहसुन सब्जी है या मसाला। लहसुनसरकार की ओर से इस मामले में जवाब पेश किया जाना था, लेकिन कोर्ट में कोई कार्यक्रम होने के कारण इसकी सुनवाई आज नहीं हो पाई। उन्होंने कहा कि अगर अनाज मार्केट में लहसुन बेचा जा रहा है तो भी उसमें कोई टैक्स नहीं लगता। इसके विपरीत उन्हें अनाज मार्केट में सिर्फ 2 फीसदी कमीशन बिचौलिये को देना पड़ता है। लहसुनजबकि सब्जी मार्केट में बिचौलियों का कमीशन 6 फीसदी है।विदित हो की प्रदेश में लहसुन का भारी उत्पादन होने से इसकी कीमत गिर जाती है। वहीं सब्जी मार्केट में भी जगह कम होने से लहसुन सही कीमत पर नहीं बिक पाता है इसलिए सरकार ने किसानों को लहसुन खुले अनाज मार्केट में भी बेचने का आदेश दिया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *