September 24, 2021
Breaking News

प्रदेश के कर्मचारियों को 16प्रतिशत कम मिल रहा है मंहगाई भत्ता

कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन की कवर्धा बैठक मे बना आंदोलन की रूप रेखा

हरित छत्तीसगढ़. केंद्र सरकार द्वारा मंहगाई भत्ता की घोषणा के बाद छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों को पहले से कम महंगाई मिल रहा था ,उसका अंतर ज्यादा बढ़ गया ,महगाई सभी के लिए एक समान है परंतु छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों को 12 प्रतिशत मंहगाई भत्ता, एवम केंद्रीय कर्मचारियों को 28 प्रतिशत महंगाई भत्ता , केंद्रीय कर्मचारियों एवम छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों में चार क़िस्त का बहुत बड़ा अंतर इस घोषणा के बाद हो गया है ,जो 16 प्रतिशत है, वेतनमान का अंतर पहले से ही है, वेतन विसंगति को दूर करने की मांग लंबित है, पुरानी पेंशन बहाली की मांग ,कर्मचारियों को कई मोर्चो पर अपनी जायज मांगों के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है, छ ग प्रदेश तृतीय वर्ग शा कर्मचारि संघ के उप प्रांताध्यक्ष संतोष पाण्डेय, जिला शाखा अध्यक्ष गोपाल नायक कार्यकारी अध्यक्ष शेख करीमुल्ला ने बताया कि इसी को ध्यान में रखते हुए कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन की बैठक कवर्धा में हुआ, जिसमें निर्णय लिया गया ,छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन से सम्बद्ध संगठन कीअगस्त माह में क्रांति की मशाल उठाने का फ़ैसला किया है । कवर्धा में आयोजित हुए प्रांतीय प्रबंध कारिणी समिति के बैठक में प्रांताध्यक्षों ने सर्वसम्मति से जुलाई 2019 के आज तक लंबित महँगाई भत्ता की तत्काल स्वीकृति एवम 14 सूत्रीय माँगपत्र के लंबित मुद्दों के निराकरण के लिए मुख्यसचिव के अध्यक्षता में हाई पावर कमेटी के गठन के लिए वादा निभाओ आंदोलन करने का निर्णय लिया है।
गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के आव्हान पर राज्य के कर्मचारी-अधिकारियों ने माह दिसंबर 2020 में तीन चरणों में ऐतिहासिक कलम रख मशाल उठा आंदोलन किया था। जिसके बाद राज्य सरकार ने सातवें वेतनमान की तीसरी क़िस्त और जुलाई 2020 के रोके गए वार्षिक वेतनवृद्धि को एरियर्स सहित भुगतान किया था। साथ ही तृतीय श्रेणी के पदों पर अनुकंपा नियुक्ति करने 10 प्रतिशत सीलिंग को जून 2022 तक शिथिल कर दिया था।   फेडरेशन के संयोजक कमल वर्मा की अध्यक्षता में निर्णय लिए अनुसार सभी सम्बद्ध संगठनों के प्रांताध्यक्ष एवं महामंत्री तथा जिला संयोजक राजधानी रायपुर स्थित धरना स्थल में अनशन पर बैठेंगे। यदि सरकार ने समय रहते निर्णय नहीं लिया तो छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन सरगुजा,बस्तर,रायपुर एवं बिलासपुर संभाग में बैठक आयोजित कर चरणबद्ध आंदोलनों को घोषित करेगा।   दुर्ग संभाग अंतर्गत कवर्धा में आयोजित बैठक में सम्मान के अवसर पर   पी.आर.यादव मुख्य संरक्षक, छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग शा. कर्मचारी संघ ने कहा कि इतिहास गवाह है कि, कर्मचारियों की माँग फेडरेशन में एकजुट रहकर ही संभव हुआ है । आगे भी सभी संगठन को एकजुट होकर संघर्ष करना चाहिए। बैठक में सर्व प्रांताध्यक्ष आर के रिछारिया डिप्लोमा इंजी. संघ,राजेश चटर्जी शिक्षक फेडरेशन,सतीश मिश्रा (राष्ट्रीय अध्यक्ष),मूलचंद शर्मा वन कर्म. संघ,बी पी शर्मा कर्मचारी कॉंग्रेस,चंद्रशेखर तिवारी तृतीय वर्ग कर्म.संघ,अजय तिवारी प्रदेश तृतीय वर्ग कर्म.संघ,डी एस भारद्वाज पशु चिकित्सा अधिकारी संघ,डॉ लक्ष्मण भारती अजाक्स,संजय सिंह लिपिक वर्ग कर्म.संघ,पंकज पाण्डेय बहु. स्वास्थ कर्म.संघ, दिनेश रायकवार लघुवेतन कर्म संघ,यशवंत वर्मा महामंत्री शिक्षक संघ,प्रशांत दुबे राजस्व निरीक्षक संघ,अश्वनी वर्मा राजस्व पटवारी संघ,नीरज प्रताप सिंह,रामसागर कोशले अध्यक्ष संचालनालय कर्म. संघ,शंकर वराठे इंजी.पॉलिटेक्निक राजपत्रित संघ,राकेश शर्मा व्याख्याता संघ,दिलीप झा नियमित व्याख्याता संघ,, सत्येन्द्र देवांगन महामंत्री अपाक्स,दिलीप तिवारी महामंत्री वाहन चालक संघ, रंजना ठाकुर महिला बाल विकास संघ,सर्व संयोजक एम एस आज़ाद बलरामपुर, विजय लहरे दुर्ग,चंद्रकुमार आदिले,जी. आर. चंद्रा महासचिव बिलासपुर, जी पी उपाध्याय सह संयोजक कोरबा सहित पदाधिकारी उपस्थित थे। कवर्धा जिला संयोजक आनंद तिवारी,प्रमोद शुक्ला,प्रताप चंद्रवंशी,दिलीप चंद्रवंशी, विद्याभूषणदुबे,व्यासनारायण तिवारी, सतीश चंद्राकर सहित अन्य पदाधिकारियों ने प्रांताध्यक्ष/महामंत्री का स्वागत-सम्मान फूलमाला-प्रतीक चिन्ह द्वारा किया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *