August 5, 2021
Breaking News

सड़क पर बनी इन लाइनों का मतलब,क्यों होती हैं सफेद और पीली लाइन ?

भारत में लोग ट्रैफिक के नियमों का पालन नहीं करते हैं क्योंकि कोई भी इसे अपनी जिम्मेदारी नहीं समझता है। ज्यादातर लोगों के लिए ट्रैफिक के नियम ट्रैफिक लाइट के रंगों के तक ही सीमित रह जाते हैं।भारत में सड़क सुरक्षा एक बहुत बड़ी समस्या है। जानिए ट्रैफिक नियमों में से एक छोटे से नियम के बारे में जिससे सड़क पर यात्रा करना सुरक्षित और आरामदायक होगा।सड़क पर बीच में बनी सफेद और पीली लाइन तो अपने देखी ही होंगी। कभी-कभी वो एक लंबी लाइन होती हैं और कभी-कभी बीच से टूटी हुई। यह लाइनें भी ट्रैफिक के नियमों का हिस्सा हैं। पढ़िए क्या मतलब हैं इन लाइनों का-

1- सीधी सफेद लाइनNavodayatimes

सीधी सफेद लाइन का मतलब होता है। कि आपको बिल्कुल सीधे चलना है और आप किसी भी वाहन को ओवरटेक नहीं कर सकते हैं। अगर आप ऐसा करते हैं तो यह एक कानूनी अपराध है।

2- टूटी हुई सफेद लाइनNavodayatimes

टूटी हुई सफेद लाइनों का मतलब होता है कि आप सड़क पर ओवरटेक कर सकते हैं।मगर अपनी लाइन के अंदर यानी आप ओवरटेक करते हुए दूसरी साइड में न जाए।

3- दो सफेद लाइनेंNavodayatimes

अगर रोड के बीच में दो सफेद लाइनें बनी है तो इनका मतलब है कि चालक को आगे निकलने की अनुमति नहीं है जैसे वाहन चल रहे हैं ऐसे ही चलने दो। और यहां पर आप ओवरटेक नहीं कर सकते। ऐसा करना कानूनन अपराध है।

3- सड़क के किनारे पर बनी पीली लाइनNavodayatimes

जहां पर सड़क के किनारे पर पीली लाइन बनी होती है इसका मतलब है कि यहां पर गाड़ी पार्क करना बिल्कुल मना है।

4- सड़क के बीच बनी पीली लाइनNavodayatimes

जिस रोड पर सड़क के बीच मे पीली लाइन बनी होती है। इसका मतलब होता है कि आप बहन को ओवरटेक कर सकते हैं मगर अपनी पीली लाइन के अंदर ही रहते हुए।

5- डबल पीली लाइनेNavodayatimes

जिस रोड पर सड़क के बीचो बीच दो पीली लाइनें बनी होती है। इसका मतलब होता है कि आप इन पीली लाइनों को क्रॉस नहीं कर सकते। इन लाइनों का प्रयोग दो लाइन की सड़कों पर किया जाता है।

6- स्टॉप लाइनImage result for सड़क पर बनी इन लाइनों का मतलब

स्टॉप लाइन ज्यादातर वहां पर देखने में आती है जहां ट्रैफिक को नियंत्रित किया जाता है इन लाइनों का मतलब होता है कि आपको अपनी गाड़ी को इन लाइनों से पीछे ही रोकना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *