January 20, 2022
Breaking News

आत्महत्या के मामले मे पत्थलगांव क्षेत्र की ये कैसी तस्वीर,दो दिनों मे चार आत्महत्या के मामले

आत्महत्या के मामले मे पत्थलगांव क्षेत्र की ये कैसी तस्वीर,दो दिनों मे चार आत्महत्या के मामले

हरित छत्तीसगढ़ विवेक तिवारी पत्थलगांव


पत्थलगांव में भी पिछले कुछ समय से जहरखुरानी से आत्महत्या करने के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों से लोगों में सहनशक्ति की कमी, मानसिक तनाव, महत्वाकांक्षा बढने लगी हैं। ऐसे में कई बार व्यक्ति सुधबुध खो बैठता है और आत्महत्या जैसे कदम उठा लेता है। पत्थलगांव क्षेत्र में भी पिछले कुछ समय से इसी तरह के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इधर दो दिनो के अंतराल की बात करे तो जहर सेवन कर आत्महत्या का प्रयास करने के चार मामले दो दिनों दर्ज किए गए हैं। इसमें विषाक्त सेवन से आत्महत्या करने के प्रयास शामिल है।हालांकि राहत भरी खबर यह है कि चारों मामले मे चिकित्सकों ने अथक प्रयास कर जहर सेवन करने वालों की जान बचा ली है। इस संबध मे मिली जानकारी के मुताबिक इन दो दिनों मे मंदारी खलखों पिता जगतो खलखों निवासी किरिया,बंसती विश्वकर्मा पति जगेश्वर निवासी ठाकूरनगर,धनसिंह पिता नन्हीराम निवासी ठाकुरपोड़ी,धरमसाय पिता बतिरा निवासी घरजियाबथान इन चारो ने अलग अलग कारणों से जहर सेवन कर अपनी जान लेने की कोशिश की परंतु चिकित्सकों के बेहतर ईलाज से उनकी जान बच गई।
पत्थलगांव सिविल अस्पताल मे गुरूवार और शुक्रवार दो दिनो अंतराल मे जहरसेवन के चार मामले सामने आने के बाद एक बार फिर यह सोचने को मजबूर कर रहा है कि आखिर क्यों और किन हालात में कोई व्यक्ति खुद अपनी जिंदगी को खत्म करने का फैसला लेता है? अगर हम बात करे पत्थलगांव क्षेत्र की तो आखिर क्यों यहां सूइसाइड के मामले बढ़ रहे हैं और आत्महत्या के प्रयास के मामले में पत्थलगांव की तस्वीर भी बहुत अच्छी नहीं है। जानकारों का कहना है कि पिछले कुछ समय से इसी तरह के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों से यहां के लोगों में सहनशक्ति की कमी, मानसिक तनाव, महत्वाकांक्षा बढने लगी हैं। ऐसे में कई बार व्यक्ति सुधबुध खो बैठता है और आत्महत्या जैसे कदम उठा लेता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *