July 25, 2021
Breaking News

मैनपाट के प्राकृतिक सौन्दर्य निखारने हेतु ब्लू-प्रिंट तैयार करने जल संसाधन सचिव बोरा ने दिए निर्देश    

मैनपाट के प्राकृतिक सौन्दर्य को निखारने जल संवर्धन हेतु ब्लू-प्रिंट तैयार करने जल संसाधन सचिव श्री बोरा ने दिए निर्देश

हरितछत्तीसगढ़ रौशन वर्मा अम्बिकापुर :- जल संसाधन विभाग के सचिव श्री सोनमणी बोरा ने छत्तीसगढ़ की मिनी शिमला के नाम से विख्यात सरगुजा जिल के  मैनपाट को मध्यप्रदेष के अमरकंटक की तरह विकसित करने के लिए एक माह के भीतर ब्लू-प्रिंट तैयार करने के निर्देष जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को दिए हैं।  बोरा ने यह निर्णय कल यहां सरगुजा के संभागीय मुख्यालय अम्बिकापुर में सम्पन्न विभागीय अधिकारियों की संभागीय बैठक में कमिश्नर  अविनाष चम्पावत के साथ लिए।  जल संसाधन विभाग के सचिव ने छत्तीसगढ़ में संभागीय समीक्षा बैठक सबसे पहले सरगुजा संभाग में लेने यहां आए हुए थे।

जल संसाधन विभाग के सचिव  बोरा ने मुख्य अभियंता जल संसाधन  इन्द्रजीत उईके को निर्देषित किया कि मैनपाट के प्राकृतिक सौन्दर्य को निखारने के उद्देश्य से जल संवर्धन के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाएं। उन्होंने कहा कि मैनपाट की पहाड़ियों में नदी-नालों की बहुलता है, लेकिन अधिकांश नदी-नाले गर्मी के दिनों में सूख जाते हैं। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा है कि मैनपाट  में नैसर्गिक रूप से बहने वाली नदी-नालों में उपयुक्त स्थानों का चयन कर पर्याप्त संख्या में चेक डेम बनाने संबंधी ब्लू-प्रिंट एक माह के भीतर प्रस्तुत करें।  बोरा ने कहा कि मैनपाट में जल संरचनाओं के विकास से मैनापाट की सुन्दरता में और निखार आएगी। इसके साथ ही फसलों की सिंचाई के लिए पानी मिल सकेगा और कुछ स्थानों पर सौर ऊर्जा के माध्यम से भी सिंचाई हो सकेगी, जिससे  कृषि कार्यो को तो बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा है कि  इसके साथ ही इससे निस्तार की सुविधा भी मिलेगी और इस क्षेत्र की हरियाली में भी वृद्धि होगी तथा पर्यटन की दृष्टि से लोगों के आकर्षण का केन्द्र बनेगा।  बोरा ने अधिकारियों को शीघ्र कार्य-योजना को क्रियान्वित करने के निर्देष दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *