September 25, 2021
Breaking News

सिद्धू की धमकी-क्रिसमस सेलिब्रेशन में विध्न डालने वालों की आंख निकाल लेंगे

सिद्धू की धमकी-क्रिसमस सेलिब्रेशन में विध्न डालने वालों की आंख निकाल लेंगे

नई दिल्ली। 25 दिसंबर को क्रिसमस डे मनाने पर चल रहे विवाद पर पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बयान जारी किया है। इस बयान में धमकी देते हुए उन्होंने कहा कि पंजाब में ईसाइयों को नीचे गिराएगा उनकी आंख निकाल ली जाएगी।विदित हो कीबीते दिनों में कुछ हिंदुवादी संगठनों द्वारा क्रिसमस सेलिब्रेशन में विध्न डालने के मामले सामने आए हैं. यूपी और राजस्थान में दो मामले सामने आ चुके हैं. ऐसे में जालंधर स्थित चर्च के बिशप फ्रांको ने चिंता जताई थी. इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कड़ी चेतावनी जारी की है.पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने क्रिसमस डे पर विवाद करने वालों को गुरुवार को धमकी देते हुए कहा कि जो भी पंजाब में ईसाइयों को नीचे गिराएगा उनकी आंख निकाल ली जाएगी। अमृतसर में राज्य सरकार द्वारा आयोजित किए गए एक क्रिसमस कार्यक्रम में पहुंचे सिद्धू ने कहा “अगर आपको कोई नीचे गिराता है तो हम उसकी आंख निकाल लेंगे।” पिछले साल बीजेपी छोड़ कांग्रेस का दामन थामने वाले सिद्धू ने कहा पंजाब में किसी को भी त्योहार में खलल डालने की इजाजत नहीं दी जाएगी। सिद्धू ने कहा सभी समुदाय पंजाब में शांतिपूर्ण रहते हैं और हर व्यक्ति को किसी भी धर्म का प्रचार और उसे मानने का पूरा हक है।सिद्धू ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार भारतीय संविधान का हिस्सा है। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से वादा किया कि हर समुदाय को उनके धार्मिक त्योहार मनाने के लिए उन्हें स्वतंत्र और निष्पक्ष वातावरण दिया जाएगा। स्वर्ण मंदिर के बारे में बात करते हुए सिद्धू ने कहा कि इस मंदिर के द्वार सभी के लिए खुले हैं।पंजाब में सभी धर्म के लोग पूर्ण सामंजस्य के साथ रहते हैं। हम वादा करते हैं कि राज्य सरकार किसी को भी शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने नहीं देगी।देश के कई हिस्सों में क्रिसमस मनाने को लेकर विवाद चल रहा है। इस बारे में जालंधर स्थित रोमन कैथोलिक चर्च का नेतृत्व करने वाले बिशप फ्रांको मुलाक्कल ने चिंता जताते हुए कहा है कि देश के कई हिस्सों में ईसाइयों को क्रिसमस मनाने की इजाजत नहीं दी जा रही है जो कि हमारे बुनियादी मानव अधिकारों का उल्लंघन है। हर व्यक्ति को अपना त्योहार मनाने की इजाजत मिलनी चाहिए। यह जानकर बहुत ही आश्चर्य होता है कि कुछ लोगों के लिए क्रिसमस एक मुद्दा बन गया है लेकिन मैं बहुत संतुष्ट हूं कि पंजाब में ईसाइयों को क्रिसमस मनाने की पूरी छूट मिली हुई है।आपको बता दें कि बुधवार रात राजस्थान के प्रतापगढ़ में क्रिसमस के आयोजन में विध्न डालने का मामला सामने आया था. यहां स्थानीय संगठन के लोगों ने कम्युनिटी सेंटर में क्रिसमस के आयोजन के दौरान तोड़-फोड़ कर दी थी. उपद्रवियों का आरोप था कि आयोजन के बहाने ये लोग धर्मांतरण करने की कोशिश कर रहे हैं. इसके साथ ही यूपी के अलीगढ़ में हिंदू जागरण मंच ने ईसाइ स्कूलों को धमकी देते हुए कहा था कि हिंदू बच्चों को क्रिसमस सेलिब्रेशन से दूर रखें. ऐसे में यूपी सरकार ने सख्ती दिखाते हुए ऐसी हरकत करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

6 thoughts on “सिद्धू की धमकी-क्रिसमस सेलिब्रेशन में विध्न डालने वालों की आंख निकाल लेंगे

  1. ये लोगों को किसने ये अधिकार दे दिए हैं कि देश की सुंदरता को बर्बरता में पूरी तरह बदल दिया हैं क्या इनको बिलकुल भी शर्म नहीं रही कि भारत देश की एकता को यू बर्वाद कर रहे हैं अपनी गन्दी कट्टरवादी सोचों दूसरों के ऊपर थोपना जब इनके पास सच्चाई नहीं बड़ी ही आसानी से झूठ का सहारा लेलेते और तो और जिनका काम समाज में बिना किस भेदभाव के सामान न्याय का जिम्मा दिया जाता हैं जिनसे एक अच्छा और निष्पक्ष न्याय की उम्मीद करों तो वो भी न जाने क्यों बबुराई का साथ देकर ऐसे अराजक तत्वों का साथ देदेते हैं जब तक ऐसे हिंसात्मक लोगो पर सही सा अंकुश नहीं लगता हैं तो देश वास्तव में तरक्की कभी नहीं कर पाएंगा अब ये समय अज्ञानों का समय नहीं रहा जहाँ पर किसी को कभी भी उल्लू बना दियाl अब सब समझते हैं प्रत्येक भारतवासी अब जागृत अनिवार्य होगया हैं￰￰l

  2. यह भारत धर्म निरपेक्ष देश हैं यहां हर कौम के लोगों को जिने की अधिकार हैं जो लोग इस तरह से कर रहे हैं

  3. यह भारत धर्म निरपेक्ष देश हैं यहां हर कौम के लोगों को जिने की अधिकार हैं जो लोग इस तरह से कर रहे हैं ये सब अच्छा नहीं है हमारा भी तो खुशियॉ मनाने और खुश रहने का हक जब हम लोग मानव जीवन पाए हैं तो नैतिकता के आधार पर मानवता को समझना चाहिए ये नहीं की इंसान इंसान को आपस में लडना ये सब बिलकुल गन्दी बात है
    संजय भवसागर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *