July 24, 2021
Breaking News

सिक्ख समाज समेत नागरिको ने किया चार शाहीबजादो को याद

सिक्ख समाज समेत नागरिको ने किया चार शाहीबजादो को याद


हरितछत्तीसगढ़ विवेक तिवारी/संजय तिवारी।।पत्थलगांव में गुरु सिंह सभा और स्थानीय नागरिकों द्वारा आज बस स्टैंड स्थित जय स्तंभ चौक में चार साहिबजादों को मोमबत्ती जलाकर नमन किया गया इस दौरान बड़ी संख्या में सिख समुदाय व स्थानीय नागरिकों की मौजूदगी थी इस मौके पर गुरु सिंह सभा के रविंद्र सिंह भाटिया वह गुरुद्वारा के ज्ञानी त्रिलोचन सिंह ने शहीदी दिवस का इतिहास वर्णन करते हुए बताया कि सिक्ख इतिहास में ही नही देश के इतिहास में बहुत बड़ी सहादत का दिन है ,हम लोगों के द्वारा 22 दिसंबर से 27 दिसंबर तक शहीदी सप्ताह मनाया गया ,22 दिसम्बर गुरु गोबिंद सिंह जी 40 सिक्ख फौजों के साथ चमकौर की गड़ी एक कच्चे किले में 10 लाख मुगल सैनिको से मुकाबला करते हुुुयेे एक एक सिक्ख 10 लाख मुगलिया फौजों पर भारी पड़े उन्होंने बताया कि गुरु गोबिंद सिंह जी के सभी बेटे काफी कम उम्र में 10 लाख मुगलिया फौजों से डटकर सामना करते हुवे शाहिद हो गए। इस मौके पर रविंद्र सिंह भाटिया ने कहा इतिहास का सबसे शहादत वाले दिन को इतिहास के पन्नो में दर्ज नही किया जाना सबसे दुखद पहलू है उन्होंने कहा कि भारत देश के राजनीतिक इतिहास में बहुत सारी गाथाएं बताई जाती है लेकिन जिस परिवार के सात सात लोग धर्म की रक्षा के लिए शहीद हो गए दुर्भाग्य है हमारे भारत देश की सरकारों का जिन्होंने इन शहीद साहिबजादों के परिवारों के लिए किताबों के पन्नों में जगह तक नहीं दी हम उन शहीद साहिबजादों को श्रद्धांजलि देने आए हैं नमन करने आए हैं 22 दिसंबर से 27 दिसंबर तक हमने दरबार में शहीदी सप्ताह मनाया है उन्होंने भारत की सरकार के ऊपर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि पूरे देश में बहुत सारे शहीदी सप्ताह मनाए जाते हैं क्या हमारी सरकार 22 दिसंबर से 27 दिसंबर के दौरान देश और धर्म की रक्षा करने में शहीद हुए साहिबजादों की याद में यह सप्ताह देशवासियों के लिए अर्पित नहीं कर सकती।


इस मौके पर सिख समुदाय द्वारा गुरुद्वारा से फेरी निकाल जय स्तंभ चौक पहुंच वहां शहीदों को याद कर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए मोमबत्ती जला कर दो मिनट का मौन रख कार्यक्रम का समापन किया।इस मौके पर मनजीत सिंह अरोरा ने सहिदी इतिहास के बारे में जानकारी देते हुवे गुरु गोबिंद सिंह और उनके परिवार को नमन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *