September 17, 2021
Breaking News

नया साल का जश्न मनाना तो दूर खाने के लाले पड रहे इन शिक्षाकर्मियो के समक्ष

नया साल का जश्न मनाना तो दूर खाने के लाले पड रहे इन शिक्षाकर्मियो के समक्ष

हरित छत्तीसगढ़  रायपुर //सर्व शिक्षा अभियान में कार्यरत शिक्षाकर्मियों को नवंबर माह का वेतन नहीं मिलने से वे कई परेशानियों से गुजर रहे हें. अनेक शिक्षाकर्मीं ऐसे हैं जिन्हें, नया साल  सही रूप से मनाना तो दूर, उन्हे खाने के लाले पड़ने लगे हैं. विशेषकर वे शिक्षाकर्मी जो अपने घरों से दूर-दराज क्षेत्रों में पदस्थ हैं एवं मात्र वेतन के भरोसे जीवन-यापन कर रहे हैं, उनके समक्ष विकट की स्थिति आ गई है. अधिकतर शिक्षाकर्मी अपने घरों से दूर रहकर नौकरी कर रहे हैं. जो ऐसी विपरीत परिस्थिति में रहते हुए अध्यापन करा रहे हैं. छत्तीसगढ़ के  शिक्षाकर्मी  गरीबी में दिन गुजार रहे हैं. माध्यमिक शिक्षा मिशन के तहत आने वाले शिक्षाकर्मियों को सरकार ने नवंबर महीने का वेतन जारी कर दिया. लेकिन सर्व शिक्षा अभियान के तहत आने वाले प्रदेश के करीब 90 हजार शिक्षाकर्मियों को अब तक नवंबर महीने का वेतन नहीं मिला है। शिक्षाकर्मियों को नवंबर माह का वेतन नहीं मिला है और अब दिसंबर भी समाप्त होने पर है. वहीं कई शिक्षाकर्मियों को अक्टूबर माह से वेतन नहीं दिया गया है. जनपद और जिला पंचायतों के चक्कर काट-काट कर शिक्षाकर्मी निराश हो चुके हैं. कई शिक्षाकर्मियों को वेतन नहीं मिलने से उन्हें आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ रहा है. कई शिक्षाकर्मियों ने अपने घर के जेवरातों को इस उम्मीद से गिरवी रख दिया है कि अगले माह उन्हें वेतन मिल जाएगा और वे साहूकार को पैसा लौटा देंगे. राजधानी के धरसींवा ब्लॉक के शिक्षाकर्मी रायपुर की सड़कों में भीख तक मांगने की तैयारी कर ली है. शिक्षाकर्मियों के मुताबिक नए वर्ष में उत्साह व उमंग रहता है, सभी लोग नए वर्ष का स्वागत करते है, वही इस बार प्रदेश के 90 हजार प्राथमिक शाला व पूर्व माध्यमिक शाला के शिक्षाकर्मी 01 जनवरी 2018 को स्कूल तो जाएंगे पर उनके मन में वेतन नही मिलने का मलाल जरूर रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *