September 17, 2021
Breaking News

अरुणाचल प्रदेश में घुसी चीनी सेना, भारतीय सेना द्वारा खदेड़े जाने के बाद भड़का चीन,सामान छोड़ भागे

अरुणाचल प्रदेश में घुसी चीनी सेना, भारतीय सेना द्वारा खदेड़े जाने के बाद भड़का चीन,सामान छोड़ भागे

नई दिल्ली। जिस तरह से चीन की सेना ने एक बार फिर से भारतीय सेना में घुसपैठ की कोशिश की है उसने चीन के इरादों को लोगों के सामने लाकर रख दिया है। हालांकि भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों को अरुणाचल प्रदेश में खदेड़ दिया है बता दें कि चीन सड़क निर्माण का सहारा लेते हुए भारत के अरुणाचल प्रदेश के तूतिंग क्षेत्र में करीब 1 किलोमीटर अंदर घुस गया। हालांकि जब भारतीय सैनिकों ने खदेड़ा, तो यह चीनी दल अपने सामानों को छोड़कर भाग गया।सामान छोड़कर भागे चीनी सैनिक खबरों की अनुसार चीनी की सेना ने कथित तौर पर भारतीय सीमा को पार करके यहां घुस आई थी, जिसे खदेड़ने के लिए जब भारतीय सेना यहां पहुंची तो चीनी सैनिक रोड-कंस्ट्रक्शन का सामान घटनास्थल पर ही छोड़ भागे थे। पिछले कुछ समय से चीन की ओर से सड़क निर्माण गतिविधि काफी बढ़ गई है। आपको बता दें कि डोकलाम विवाद को खत्म हुए अभी चार महीने ही हुए हैं। डोकलाम एक ट्राई-जंक्शन है, जहां भारत, चीन और भूटान की सीमा मिलती है
चीन बोला हमारा रुख साफ मिली जानकारी के मुताबिक, यह घटना 28 दिसंबर की है।इस घटना के बाद एक बार फिर से चीन ने अपनी हरकत दिखाना शुरू कर दी, उसने बयान दिया है कि हमने कभी भी अरुणाचल प्रदेश के अस्तित्व को स्वीकृति नहीं दी है। एक तरफ जहां चीन ने अरुणाचल प्रदेश के अस्तित्व पर अपनी तीखी बयानबाजी की तो दूसरी तरफ उसकी सेना की ओर से अरुणाचल प्रदेश में की गई घुसपैठ पर उसने चुप्पी साध रखी है। जिस तरह से मीडिया में यह खबर आई कि चीनी सेना ने अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले के पास गांव में भारतीय सीमा के भीतर तकरीबन 200 मीटर तक घुसपैठ की उसके बाद चीनी के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने बयान देते हुए कहा कि हमने अरुणाचल प्रदेश के अस्तित्व को कभी स्वीकृति नहीं दी है, हालांकि उन्होंने घुसपैठ पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।दरअसल, ग्रामीणों ने चीन की गतिविधियों के बारे में पुलिस को सूचना दी, जिसने बिशिंग के समीप मेडोग में तैनात आईटीबीपी को इसकी खबर दी। दोनों पक्षों में कहासुनी हुई, लेकिन चीनी दल ने मानने से इनकार कर दिया। तब भारतीय सेना को वहां भेजा गया, जो अबतक वहां तैनात हैं।चीन बोला हमारा रुख साफ चीनी की ओर से जारी बयान में गैंग ने कहा कि हम पहले तो यह कहना चाहते हैं कि सीमा के मुद्दे पर हमारी स्थिति बिल्कुल साफ है और लगातार पहले की ही तरह से बरकरार है। हमने कभी भी अरुणाचल प्रदेश के अस्तित्व को स्वीकृति नहीं दी है। जिस स्थिति (घुसपैठ) की आप लोग बात कर रहे हैं उसके बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। आपको बता दें कि चीन हमेशा से यह दावा करता आया है कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिणी तिबत का हिस्सा है। भारत चीन के बीच सीमा का विवाद एक्चुअल लाइन ऑफ कंट्रोल को लेकर 3488 किलोमीटर का है।
सामान छोड़कर भागे चीनी सैनिक

डोकलाम विवाद क्या है?

हाल ही में डोकलाम इलाके में भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच 72 दिनों तक गतिरोध चला था। इस दौरान दोनों देशों के बीच माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया था। ये विवाद सड़क बनाने को लेकर ही शुरू हुआ था। भारतीय सेना ने चीन के सैनिकों को इस इलाके में सड़क बनाने से रोक दिया था। इसके बाद दोनों देशों के बीच करीब 72 दिन तक गतिरोध चलता रहा। हालांकि इसको दोनों देशों ने सुलझा लिया था और चीन सेना अपने क्षेत्र में वापस लौट गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *