September 25, 2021
Breaking News

राज्यपाल ने किया इंदिरा गांधी कृषि विवि के कृषि पंचांग का विमोचन

 राज्यपाल ने किया इंदिरा गांधी कृषि विवि के कृषि पंचांग का विमोचन

हरित छत्तीसगढ़ रायपुर। राज्यपाल ने राजभवन में इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर की ओर से प्रकाशित कृषि पंचांग 2018 का विमोचन किया। राज्यपाल बलरामदास टंडन ने कृषि विश्वविद्यालय की ओर से प्रकाशित कृषि पंचांग की सराहना करते हुए इसे किसानों के लिए उपयोगी बताया।उन्होंने इस कृषि पंचांग को अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने पर जोर दिया। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील ने राज्यपाल को कृषि पंचांग में प्रकाशित सामग्री के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि, प्रधानमंत्री की ओर से किसानों की आय दोगुनी किये जाने के लक्ष्य को साकार करने के लिए विश्वविद्यालय की ओर से किसानों के लिए विकसित उन्नत कृषि तकनीक, विभिन्न फसलों की नवीन प्रजातियों, प्रतिमाह किए जाने वाले कृषि कार्य के साथ-साथ छत्तीसगढ़ शासन के कृषि और जैव प्रौद्योगिकी विभाग और उद्यानिकी विभाग से किसानों की बेहतरी के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं को कृषि पंचांग में शामिल किया गया है।उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का यह प्रकाशन किसानों के बीच अत्यंत लोकप्रिय है और इसकी 1 लाख प्रतियां मुद्रित की गई हैं। यह कृषि पंचांग कृषि विज्ञान केन्द्रों, छत्तीसगढ़ कृषि और विपणन (मण्डी) बोर्ड और कृषि और जैव प्रौद्योगिकी विभाग के माध्यम से किसानों को उपलब्ध कराया जाएगा।इस दौरान इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के निदेशक विस्तार डॉ. एम.पी. ठाकुर एवं प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. एस.एस. टुटेजा मौजूद थे।बताया जाता है कि इस कैलेंडर को इंदिरा गांधी कृषि विश्व विद्यालय रायपुर के प्राध्यापक व स्यविज्ञान एवं प्रस्तोता तथा फाउंडर संपादक, कृषि पंचांग डॉ गजेंन्द्र सिंह तोमर के विशेष सहयोग से निर्मित एवं सम्पादित किया गया है इस कैलेंडर का ई वर्जन इन दिनों लोगो के मोबाइल की शोभा बढ़ाते हुवे उन्हें जानकारी प्रदान कर रहे है माना जाता है कि यह भारत का प्रथम कृषि पंचांग है जिसमे (खेती किसानी की समसामयिक जानकारी, मासिक कृषि कब, कैसे क्या कार्य करना है, किसानों के लिए बेहद उपयोगी) जिसे इंदिरा गांधी कृषि विश्व विद्यलाय द्वारा वर्ष 2000 से निरंतर प्रकाशित और किसानों में प्रसारित किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *