September 25, 2021
Breaking News

पत्रकारों के स्वास्थ्य जांच शिविर में भारी अव्यवस्थाएं ,आक्रोशित पत्रकारों ने रसीद फाड़कर जाहिर की नाराजगी

पत्रकारों के स्वास्थ्य जांच शिविर में भारी अव्यवस्थाएं ,आक्रोशित पत्रकारों ने रसीद फाड़कर जाहिर की नाराजगी

हरित छत्तीसगढ़

सूरजपुर : शाशन द्वारा पत्रकारों के स्वास्थ्य जांच हेतु जिला चिकित्सालय सूरजपुर के परिसर में स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया था जिसका स्थानीय पत्रकारों ने बहिष्कार कर दिया।

ज्ञात हो कि छत्तीशगढ़ के मुख्य मंत्री एवम स्वास्थ्य मंत्री द्वारा राज्य के समस्त जिलो के पत्रकारों का स्वास्थ्य जांच हेतु सभी कलेक्टरो को निर्देश दिया गया था जिसके तारतम्य में सूरजपुर जिले में भी आज शुक्रवार को पत्रकारों के निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया जिसमे भारी अव्यवस्थाएं देखने को मिली ।खास बात तो यह है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा पत्रकारों के स्वास्थ्य जांच के लिए विशेष तौर पर ईसीजी मशीन व्यवस्था कर रखा गया था किंतु वह मात्र दिखावे के लिए ही था क्योंकि उसे आपरेट करने वाला कोई भी टेक्निकल स्टाप मौजूद नही था जिससे पत्रकारों का स्वास्थ्य जांच नही हो पाया जिसकारण पत्रकारो में विभागीय व्यवस्था के प्रति खासी नाराजगी देखने को मिली तथा उनके द्वारा जांच हेतु पंजीयन कराये गए रसीद को फाड़कर आक्रोश करते हुए शिविर का भी बहिष्कार कर दिया।

जबकि जनसम्पर्क विभाग द्वारा दिनांक 09/1/18 को इस निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर के आयोजन के सम्बंध में समाचार प्रेषित किया था जिसमे स्पष्ट शब्दों में लिखा गया था कि उक्त निशुल्क जांच शिविर का आयोजन दिनांक 12 जनवरी 2018 दिन शुक्रवार को जिला चिकित्सालय सूरजपुर परिसर में प्रातः 11 बजे से कराया जा रहा है ।उक्त शिविर में जांच उपरांत गम्भीर बीमारी से पीड़ित पत्रकारों को उच्च संस्थानों में रेफर किया जाएगा ।जिसमे सभी पत्रकारों से निर्धारित तिथि में स्वास्थ्य जांच लेने का भी अनुरोध किया गया था।जिसे मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी से प्राप्त जानकारी बताया गया था।

अब यहां पर सोचनीय तथ्य यह है कि जब जिले के स्वास्थ्य विभाग के उच्च पद पर आसीन द्वारा इस शिविर के सम्बंध में जानकारी का प्रकाशन कराया गया जिससे स्पष्ट है कि यह शिविर पूर्व सुनिश्चित था तो फिर उनको इस शिविर से सम्बंधित सम्पूर्ण व्यवस्था को बना कर रखना था ताकि शिविर का सफल आयोजन हो सके लेकिन इसके विपरीत कई तरह की अव्यवस्थाएं सामने आयी जिससे यह स्पष्ट होता है सीएमओ साहब द्वारा जानबूझकर लापरवाही की गई जिससे प्रदेश के मुख्यमंत्री ,स्वास्थ्य मंत्री एवं कलेक्टर सूरजपुर के निर्देशो की अवहेलना तो हुआ ही है साथ ही जिले के पत्रकारों के सम्मान को भी ठेस पहुचाया गया है।

जब जिला चिकित्सालय में इस तरह की अव्यवस्थाएं उस शिविर में सामने आ रही है जो की विशेष तौर पर पत्रकारों के लिए आयोजन किया गया था तो इस बात का अंदाजा कोई भी व्यक्ति आसानी से लगा सकता है की इस विभाग के जिले में
उच्च पद पर आसीन जिम्मेदार अधिकारी आमजनता के स्वास्थ्य हित के प्रति किस हद तक सजग होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *