September 24, 2021
Breaking News

कोतबा ,कर्ज के नाम पर चल रहा डबल वसुलि, रिकार्ड दुरूस्त नहीं होने से किसान हो रहे हताश ,

कोतबा ,कर्ज के नाम पर चल रहा डबल वसुलि,
रिकार्ड दुरूस्त नहीं होने से किसान हो रहे हताश ,
कोतबा।।धान उपार्जन केन्द्र कोतबा के किसानों के बताये अनुसार पता चला की कोतबा धान उपार्जन केन्द्र मे किसानों को अनावश्यक परेशान होना पड़ रहा है, जो की समिति सदस्य एवं प्रबंधक की सान्ठ्गान्ठ से यह स्थिति निर्मित हुई है, ग्राम पंचायत फ़रसाटोली के किसान श्री धनसिन्ह पैन्करा पिता रामेश्वर साय का कहना है कि TSS कोतबा मे मेरे को 100000 /-रुपये नकद से भी अधिक का कर्जदार बताया जा रहा है जबकी हमने उप्रोक्त नकद कर्ज कभी लिया ही नहीं है 13/06/2014 ,रकबा 12.630, 100000/- (नकद), 38067/06(खाद), 12630/- (बिमा) ,कुल 150697/06 रुपयॆ, जिसमे लिंकीग जमा राशि 47328 /-तथा 103369 /-शेष रकम का कर्जदार प्रभारी प्रबंधक द्वारा बता रहे है मजेदार बात यह है की रजिस्टर मे हस्ताक्षर कालम मे ना ही लेने वाले का, ना ही देने वाले का और ना ही रजिस्टर मेन्टेन करने वाले का किसि का भी हस्ताक्षर नही है जो की प्रथम द्र्ष्टया फ़र्जीवाडा प्रतित होता हैं, प्रबंधक गोविंद यादव द्वारा कर्ज की राशि धान के भुगतान के समय काटने पुर्ण रुपेण योजना बनाई है बहुतो किसानों के साथ ऐसा कर चुके है कई किसानों से तो अपने ही कार्यकाल मे एक बार के कर्ज को दो दो बार धान के भुगतान के समय काट लिया गया है, इस बर्ताव से हम किसान हतप्रभ है,और चिन्तित भी ,साथ ही संचालक मन्डल का कोई सार्थक सहयोग नहीं मिलने एवं प्रबंधक के मनमाने बर्ताव किसान हित मे नहीं होने से छुब्ध होकर जिसकी शिकायत सहकारिता विस्तार अधिकारी श्री हरिशन्कर जान्गड़ॆ जी को समक्ष भेंट कर धनसिन्ग पैकरा सहित किसान सोनसाय निवासी कोतबा, धनसिन्ग पैकरा निवासी फ़रसाटोली, एस कुमार निवासी जामझोर, श्री बारुमल निवासी कोतबा, सुनुराम निवासी भालुखार कोतबा, जगत साय, आदि किसानों ने लिखित शिकायत कर आपत्ति जताया है
जिसकी जांच श्री जान्गडे द्वारा किया जा रहा है, उन्होने बताया की किसान धनसिन्ग पैकरा के शिकायत को गम्भीरता से लेते हुये किसान के बैन्क एस्टिमेट, पासबुक जांच किया गया है जिसमे नकद रकम का उल्लेख नहीं होने से किसान धनसिन्ग पैकरा पिता रामेश्वर साय द्वारा नकद रकम नहीं लिया जाना प्रतित होता हैं जिस कारण नकद राशि को वसुलने बहरहाल रोक लगायी गयी है कर्ज के रुप मे लिये गये खाद की ही वसुलि की जायेगी,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *