October 21, 2021
Breaking News

प्रेमनगर चिकित्सालय का मामला, बीपीएम ने बीएमओ पर लगाया मारपीट का आरोप, थाने में शिकायत के बावजूद नहीं हुई कोई कार्रवाई

सिर्फ इतना ही कसूर था की बिना पूछे निकाल लीं कुर्सियां, फिर बीएमओ ने बीपीएम को जड़े

हरित छत्तीसगढ़
प्रेमनगर चिकित्सालय का मामला, बीपीएम ने बीएमओ पर लगाया मारपीट का आरोप, थाने में शिकायत के बावजूद नहीं हुई कोई कार्रवाई

सूरजपुर. बगैर पूछे बीएमओ कक्ष से कुर्सियां निकाल लेने और परिसर में सीएफएल बल्ब चालू नहीं करने पर प्रेमनगर के बीएमओ ने बीएमएम के साथ गाली-गलौज और मारपीट कर दी। घटना की सूचना उच्चाधिकारियों व पुलिस को बीपीएम द्वारा दिए जाने के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। व्यथित बीपीएम ने दूसरे दिन कलक्टर व सीएमएचओ से मुलाकात कर न्याय की गुहार लगाई है।

इस संबंध में लिखित शिकायत के माध्यम से विकासखंड कार्यक्रम प्रबंधक सखन राम आयाम ने बताया कि गत 14 जनवरी को प्रेमनगर चिकित्सालय परिसर में पल्स पोलियो अभियान की सेक्टर स्तरीय बैठक आयोजित थी।

इसमें कुर्सियां कम पडऩे पर बीपीएम सखन आयाम ने बीएमओ डॉ. शशिकांत स्नेही से बगैर पूछे उनके कक्ष से कुर्सियां निकाल ली थीं और जब शाम को वहां बीएमओ पहुंचे तो परिसर की लाइट नहीं जलने पर उन्होंने बीपीएम के साथ गाली-गलौज शुरू कर दी।

बीपीएम सखन आयम ने बीएमओ पर गाली-गलौज और गला दबाकर मारपीट करने का आरोप लगते हुए बताया कि वे नित्य की तरह शराब पीए हुए थे। बीएमओ की इस हरकत और तेज आवाज सुनकर उनकी बहन भी मौके पर पहुंची और उसके द्वारा बीएमओ को समझाइश देकर शांत कराया गया।

बीपीएम सखन राम आयाम ने आरोप लगाया कि शाम को घटना के तत्काल बाद वे प्रेमनगर थाना पहुंचे और पुलिस को जानकारी दी तो थाना प्रभारी द्वारा उनके द्वारा लिखित प्रतिवेदन मांगा गया। इस पर उन्होंने प्राथमिकी दर्ज करने का आवेदन भी लिखकर दिया था, लेकिन बीएमओ के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई।

मनगढ़ंत है आरोप
बीपीएम द्वारा मारपीट और गाली-गलौज का आरोप लगाया जा रहा है जो पूरी तरह से मनगढ़ंत है। ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है।
डॉ. शशिकांत स्नेही, बीएमओ, प्रेमनगर

जांच के बाद होगी कार्रवाई
बीपीएम सखन आयाम द्वारा लिखित में मारपीट व गाली-गलौज की लिखित शिकायत बीएमओ के विरूद्ध की गई है। मामले की जांच जारी है। जांच के बाद कार्रवाई होगी।
आरएन यादव, थाना प्रभारी, प्रेमनगर

घटना से हूं भयभीत
घटना के बाद भयभीत हूं। मारपीट और गाली-गलौज से विभाग में छवि खराब हुई है, न्याय की गुहार सभी वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष लगा चुका हूं। अब जब न्याय मिलेगा तभी ड्यूटी पर लौट पाऊंगा।
डॉ. सखनराम आयाम, बीपीएम, प्रेमनगर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *